Thursday , September 20 2018
Loading...
Breaking News

पीएम मोदी का सपने को पूरा करने में लगे इंजीनियरों ने सीखी जापानी

सपने को पूरा करने लगे इंजीनियरों को नए अनुभव से गुजरना पड़ रहा है ये इंजीनियर नेशनल हाई स्‍पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड के हैं उन्‍हें ही हिंदुस्तान में बुलेट ट्रेन दौड़ाने की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है इसके लिए उन्‍हें जापानी इंजीनियरों के साथ कार्य करने का सौभाग्‍य प्राप्‍त हुआ है कार्य जल्‍दी  अच्‍छा सीखने के लिए वे जापानी सीख रहे हैं इसीलिए आज आप कैसे हैं?  गुड मॉर्निंग भी जापानी में करते हैं-ओ जेनकी देसु का? ओ हाय यो गो मासू? हिंदुस्तान में 2022 तक बुलेट ट्रेन चलाने का लक्ष्य है

Image result for बुलेट ट्रेन

शाम को कार्य खत्‍म करने के बाद होती है क्‍लास
सप्ताह में हर दूसरे दिन शाम को जापानी सीखने की क्‍लास लगती है इसमें से जुड़े इंजीनियर एकसाथ बैठते हैं  किताब से संसार की नवीं सबसे ज्‍यादा बोली जाने वाली भाषा जापानी सीखते हैंहालांकि जापानी सीखना उतना सरल नहीं है लेकिन इंजीनियरों इस भाषा को सीखने को लेकर बहुत ज्यादा उत्‍साहित हैं हेडक्‍वार्टर में यह भाषा सीखने वालों में कंपनी के एमडी से लेकर कार्यालयस्‍टाफ तक शामिल हैं जो लोग अहमदाबाद, सूरत, वड़ोदरा  मुंबई में हैं वे वीडियो लिंक से संपर्क साधते हैं सख्‍ती इतनी है कि किसी को भी क्‍लास बंक करने की इजाजत नहीं है

Loading...

जापान की ऑफिशियल टेक्‍स्‍ट बुक से सीख रहे भाषा
जो किताबें पढ़ाई जा रही हैं उनमें मारूगोटो मुख्‍य पुस्‍तक है इसमें जापानी भाषा  संस्‍कृति के बारे में बताया गया है यह किताब जापान फाउंडेशन ने तैयार की है  इसमें जापानी भाषा की गुणवत्‍ता का पूरा ध्‍यान रखा गया है इस कोर्स बुक में ज्‍यादा जोर जापानी बोलने  उसे समझने के साथ-साथ संस्‍कृति के प्रति सम्‍मान प्रकट करने पर है इंडियन एक्‍सप्रेस ने अधिकारियों के हवाले से बोला कि हिंदुस्तान में सिर्फ हाई-स्‍पीड ट्रेन का हार्डवेयर सिस्‍टम नहीं लाया जा रहा बल्कि जिस राष्ट्र में यह ट्रेन सबसे ज्‍यादा चलती है वहां की संस्‍कृति की समझ भी विकसित कराई जा रही है सभी को भाषा सीखनी ही सीखनी है, फेल होने का कोई चांस नहीं है जो नहीं सीख पाएगा वह ट्रेनिंग लेने के लिए जापान जाने के मौका से चूक जाएगा

loading...

अक्‍तूबर में जापान जाएंगे इंडियन इंजीनियर
एनएचएसआरसीएल के एमडी अचल खरे ने बताया कि इस भाषा को सीखने के दो स्‍तर हैं-लेवल 1 लेवल 2. लेवल 2 थोड़ा मुश्किल है हमसे आपस में वार्ता भी जापानी में करने की ताकीद की गई हैइंडियन इंजीनियरों को इस वर्ष अक्‍तूबर से बारी-बारी से जापान ट्रेनिंग लेने के लिए भेजा जाएगाबुलेट ट्रेन परियोजना से करीब 3000 इंडियन इंजीनियर और टेक्निशियन जुड़ेंगे, जिन पर ट्रेन दौड़ाने से लेकर उसके रखरखाव की जिम्‍मेदारी होगी

Loading...
loading...