Thursday , September 20 2018
Loading...

कैब से सफर करने वाली स्त्रियों के लिए खुशखबरी, जाने क्या है उनके लिए खास

सरकार चाहती है कि टैक्सी समूह जैसे कि ओला  उबर स्त्रियों को सफर करते समय अपना सहयात्री चुनने का अधिकार दें. दो वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों ने बताया कि ड्राइवर के जरिए सह-यात्रियों द्वारा स्त्रियों का यौन शोषण करने की घटनाएं सामने आने के बाद गवर्नमेंट ने यह निर्णय लिया है. केंद्रीय सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय टैक्सी समूहों से इस मामले को लेकर मीटिंगकरेगा.
Image result for कैब से सफर करने वाली स्त्रियों के लिए खुशखबरी, जाने क्या है उनके लिए खास

एक वरिष्ठ ऑफिसर ने कहा, ‘शेयर टैक्सी सर्विस के लिए यह विकल्प है जिसके जरिए स्त्रियों की सुरक्षा बढ़ाई जा सकेगी. हमारा दृढ़ता से यह मानना है कि टैक्सी सेवा प्रदाताओं के पास एक ऐसा विकल्प होना चाहिए जिसमें यात्री अपने सह-यात्रियों को चुन सकें. पिछले सप्ताह केंद्रीय महिला एंव बाल मंत्री मेनका गांधी ने महिला यात्रियों द्वारा अपने सहयात्रियों को चुनने का विचार दिया था.

गांधी ने बोला था कि उनका मंत्रालय इस मामले पर सड़क मंत्रालय से बात करेगा. हालांकि इस मामले पर बुधवार को हुई सड़क  बाल एवं महिला मंत्रालयों की मीटिंग में चर्चा नहीं हुई. इस मीटिंगमें टैक्सी सेवा का इस्तेमाल करने वाली स्त्रियों की सुरक्षा पर वार्ता हुई. यह मीटिंग इसलिए हुई क्योंकि 5 जून को ओला के कैब ड्राइवर ने बंगलुरु में एक महिला को कथित तौर पर कपड़े उतारने के लिए मजबूर किया था. पुलिस ने बाद में ड्राइवर को अरैस्ट कर लिया था.

Loading...

जब इस मामले पर उबर से रिएक्शन मांगी गई तो उसके प्रवक्ता ने कहा, हमारा मानना है कि उबर जिस तरह की अत्याधुनिक तकनीक मुहैया करवाता है उससे यात्रियों की सुरक्षा में सुधार लाने के लिए अविश्वसनीय मौका प्रदान किए जाते हैं. पिछले कुछ वर्षों में हमने अपनी ऐप में यात्रियों की सुरक्षा के लिए कई सुरक्षा तरीकों की आरंभ की  हम लगातार खुद को बेहतर बना रहे हैं. हम गवर्नमेंट के साथ कार्य करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं. ओला के प्रवक्ता ने अपना जवाब देने के लिए समय मांगा है.

loading...
Loading...
loading...