Thursday , November 15 2018
Loading...

इन सब धुरंधर से भी आगे निकले एमएस धोनी

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एमएस धोनी पिछले दिनों बहुत ज्यादा आलोचना के शिकार हुए जब इंग्लैंड के विरूद्ध वनडे सीरीज में उनके प्रदर्शन को लेकर बहुत ज्यादा सवाल उठने लगे एक बेहतरीन फिनशर के रूप में मशहूर धोनी ने इंग्लैंड के विरूद्ध हुई तीन मैचों की वनडे सीरीज के अंतिम दो वनडे में अपनी प्रतिष्ठा के बिलकुल उलट ही बल्लेबाजी करते हुए बहुत ज्यादा धीमी गति से रन बनाए लेकिन एक सर्व के मुताबिक धोनी ने सबसे प्रशंसित खिलाड़ी होने के मामले में सचिन तेंदुलकर  विराट कोहली को पछाड़ दिया है

Image result for इन सब धुरंधर से भी आगे निकले एमएस धोनी

सबसे प्रशंसित खिलाड़ियों की इस सूची में धोनी के बाद सचिन तेंदुलकर छठे  विराट कोहली आठवें नंबर पर हैं साइट के मुताबिक अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉलर लियनेल मेसी  क्रिसटियानो रोनाल्डो की हिंदुस्तान में बहुत ज्यादा लोकप्रिय हैं दोनो के अतिरिक्त डेविड बेकहम  ने भी हिंदुस्तान में प्रशंसित खिलाड़ियों की सूजी में स्थान बनाई है

Loading...

धोनी को हिंदुस्तान का सबसे ज्यादा प्रशंसित खिलाड़ी चुना गया है हाल ही में किए गए सर्वे में धोनी ने विराट  सचिन तेंदुलकर तक को पीछे छोड़ दिया है   इस सर्वे के मुतबाकि धोनी राष्ट्र के सबसे प्रशंसित आदमी हैं धोनी के आगे केवल राष्ट्र के पीएम नरेंद्र मोदी हैं वर्ष में एक बार किए जाने वाला यह सर्वे वेबसाइट yougov.co.uk ने करवाया था यह वेबसाइट वर्ष में एक बार संसार के सबसे प्रशंसित व्यक्ति  के बारे में सर्वे करवाती है

loading...

गौरतलब है कि यह सर्वे जिसमें धोनी ने विराट  तेंदुलकर को पीछे छोड़ते हुए पीएम मोदी के बाद जगहहासिल किया है, इस वर्ष की शुरूआत में कराया गया था यानि यह सर्वे आईपीएल तक से बहुत ज्यादा पहले हुआ था उस समय भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज खेल रही थी जिसका भाग एमएस धोनी नहीं थे उससे पहले दिसंबर में भारतीय टीम ने श्रीलंका के विरूद्ध तीन वनडे  तीन टी20 मैचों की सीरीज खेली थी

इसमें वनडे सीरीज के पहले मैच में धोनी ने धमाके दार 65 रनों की पारी खेली थी जब श्रीलंकाई गेंदबाजों ने तूफानी गेंदाबाजी करते हुए केवल 16 रनों पर ही पहले पांच विकेट गिरा दिए थे उस मैच के पहले धोनी की फॉर्म को लेकर बहुत ज्यादा आलोचना हो रही थी धोनी ने इस मैच में अपने शानदार प्रदर्शन से आलोचकों के मुंह बंद कर दिए थे

लेकिन धोनी तब की तुलना में आज ज्यादा चर्चा में हैं एक वे चेन्नई सुपर किंग्स को आईपीएल जिताने के बाद चर्चा में रहे उसके बाद इंग्लैंड में उनके निराशाजनक प्रदर्शन ने  उनके आलोचकों के एक मौका दे दिया था धोनी ने इंग्लैंड वनडे सीरीज के दूसरे वनडे में 59 गेंदों पर 37 रन बनाए थे  उसके बाद तीसरे वनडे में 66 गेंदों पर 42 रन बनाए थे

संन्यास की चर्चा भी जोरों पर रही
वहीं जब तीसरा वनडे समाप्त हुआ था तब धोनी ने अंपायर से गेंद मांगी थी इस बात पर सोशल मीडिया में अटकलें लगने लगी थीं कि धोनी कहीं सन्यास तो नहीं ले रहे हैं, क्योंकि  टेस्ट सीरीज में संन्यास लेते समय ऑस्ट्रेलिया में आखिरी टेस्ट में भी धोनी ने अंपायर से ऐसे ही गेंद मांगी थी लेकिन बाद भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री ने साफ किया था कि धोनी ने वह गेंद भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच अरूण भरत के लिए मांगी थी जिससे उन्हें अंदाजा हो सके कि इंग्लैंड की पिचों में गेंद कैसी बदलती है

लेकिन तब तक धोनी के संन्यास की चर्चा चल निकली तो दूर तलक जा पहुंची बड़े बड़े दिग्गजों तक से राय ले ली गई सचिन तेंदुलकर ने बोला कि उनके संन्यास का निर्णय धोनी को खुद ही लेना चाहिए मीडिया में भी खूब विश्लेषण हुआ कि धोनी की कमी से ज्यादा नुकसान है या उनकी उपस्थिति से लेकिन धोनी की टीम में अहमियत को खिलाड़ी अब भी काफी मानते हैं ऐसा दक्षिण अफ्रीका सीरीज  उससे पहले की सीरीज में भी देखा जा चुका है

Loading...
loading...