Monday , November 19 2018
Loading...
Breaking News

मुजफ्फरपुर रेप मामले में बच्चियों ने कोर्ट में खोला रेप का ये बड़ा राज़

बिहार के मुजफ्फरपुर में 29 लड़कियों के साथ बलात्कार होने की पुष्टि हुई है। इस घटना के बाद से नीतीश कुमार की सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है। इस मामले में बच्चियों ने कोर्ट के सामने अपने साथ होने वाली दरिंदगी की कहानी सुनाई। उन्होंने बताया कि कैसे एनजीओ मालिक उनका बलात्कार करते और करवाते थे। 10 साल की मासूम ने कोर्ट में कहा, ‘जैसे ही सूरज डूबता था लड़कियां खौफ में आ जाती थीं।’
Related image

मेडिकल जांच में कम से कम 29 लड़कियों के साथ बलात्कार की पुष्टि हुई है। 3 लड़कियों का गर्भपात कराया गया है वहीं 3 लड़कियां गर्भवती हैं। सभी पीड़ित लड़कियां 7 से 14 साल के बीच की हैं। लड़कियों ने पॉक्सो कोर्ट में जज के सामने अपने बयान दर्ज करवाए। उन्होंने बताया कि उन्हें सताया जाता, भूखा रखा जाता, ड्रग के इंजेक्शन दिए जाते और लगभग हर रात को उनका बलात्कार किया जाता था। ज्यादातर लड़कियों ने ब्रजेश ठाकुर पर बलात्कार का आरोप लगाया है।

ब्रजेश ठाकुर सेवा संकल्प और विकास समिति एनजीओ का संचालक हैं। यही एनजीओ मुजफ्फरनगर में बालिका गृह का संचालन करती है। पीड़ित लड़किया ठाकुर से बहुत ज्यादा नफरत करती हैं। 10 साल की बच्ची ने कहा, ‘जब हम उसकी बात नहीं मानते थे तो वह हमें छड़ी से पीटा करता था।’ 14 साल की एक लड़की ने बताया, ‘जब वह हमारे कमरे में आता था तो सभी लड़कियां डर से कांपने लगती थीं। उस हंटरवाले अंकल के नाम से जाना जाता था।’

Loading...

10 साल की बच्ची ने कहा, ‘उसका बलात्कार करने से पहले उसे ड्रग दिया जाता था। जागने पर उसे अपने निजी अंगों में दर्द महसूस होता था। प्राइवेट पार्ट में जख्म होता। मैंने किरण मैम को इस बारे में बताया लेकिन उन्होंने नहीं सुना।’ 7 साल की मासूम ने कोर्ट को बताया कि जो कई भी मालिक के खिलाफ बोलता था उसे बांस की छड़ियों से पीटा जाता था। इस मामले में पुलिस ने ब्रजेश ठाकुर, नेहा कुमारी, किरण कुमारी सहित 10 लोगों को गिरफ्तार किया है।

loading...

एक लड़की ने बताया कि मेरे साथ एनजीओ के लोगों ने और बाहर के कुछ लोगों ने कई बार बलात्कार किया था। पीड़ित लड़कियों ने यह भी बताया कि कई बार उन्हें बालिका गृह से बाहर लेकर जाया जाता था। वह अगले दिन लौटती थीं। उन्हें यह नहीं पता होता था कि उन्हें कहां ले जाया जा रहा है। लड़कियों ने बताया कि उन्हें नशे की हालत में बाहर लेकर जाते थे ताकि कुछ पता ना चले। बिहार सरकार ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी है।

Loading...
loading...