Saturday , September 22 2018
Loading...
Breaking News

आतंकी हमले का मुख्य आरोपी ना तो शिकागो में है व ना ही अस्पताल में

मुंबई आतंकी हमले का मुख्य आरोपी डेविड कोलमैन हेडली ना तो शिकागो में है व ना ही अस्पताल में। उसके एडवोकेट ने बुधवार यह जानकारी देते हुए उन रिपोर्टों को खारिज कर दिया कि कारागार में कैदियों द्वारा पीटे जाने के बाद ।

Image result for डेविड कोलमैन हेडली

 

वह ना तो शिकागो में है व ना ही किसी अस्पताल में- जॉन थीस
2008 में हुए हमलों के मुख्य आरोपी हेडली के एडवोकेट जॉन थीस ने कहा, ‘‘हालांकि मैं यह खुलासा नहीं कर सकता कि वह कहां है, लेकिन वह ना तो शिकागो में है व ना ही किसी अस्पताल में। ’’ मीडिया में आई खबरों में बोला गया कि हेडली पर आठ जुलाई को शिकागो की कारागार में दो कैदियों ने हमला कर दिया था व उसे तब से शहर के एक अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया है। थीस ने कहा, ‘‘मैं हेडली से नियमित रूप से बात कर रहा हूं। इंडियन मीडिया में आई खबरें निराधार हैं। ’’ खबरों में बोला गया कि हेडली को गंभीर चोटें आई व उसे नोर्थ एवन्स्टन अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया।

Loading...

loading...

हेडली को 35 वर्ष कारावास की सजा सुनाई गई है
अमेरिका की एक न्यायालय ने मुंबई पर आतंकी हमलों के लिए उसे 35 वर्ष कारावास की सजा सुनाई है। इन हमलों में 160 से ज्यादा लोग मारे गए थे। 26/11 हमलों से पहले मुंबई समेत विभिन्न शहरों की रेकी करने वाले हेडली को 2009 में अरैस्ट किया गया था। अमेरिकी अधिकारियों ने सोमवार को मीडिया में आई खबरों पर टिप्पणी करने से मना कर दिया।

डेविड कोलमैन हेडली
26 नवंबर, 2008 को मुंबई में हुए भीषण आतंकवादी हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी। हेडली पर आरोप था कि इस हमले से पहले उसने मुंबई समेत कई इंडियन शहरों की रेकी की थी। वह 2006 व 2008 में पांच बार हिंदुस्तान आया था। उसने मुंबई के होटल ताज, ओबरॉय होटल व नरीमन हाउस के नक्‍शे व वीडियो शूट किए थे। बोला जाता है कि इन्‍हीं सूचनाओं के आधार पर लश्‍कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मुंबई पर आतंकवादी हमला किया था। उसको 2009 में अरैस्ट किया गया था। अमेरिकी न्यायालय ने उसको लश्‍कर-ए-तैयबा का सदस्‍य माना व इस आरोप में दोषी करार देते हुए उसको 35 वर्ष कारागार की सजा सुनाई थी।

Loading...
loading...