Wednesday , December 12 2018
Loading...

अकबर नाम के शख्स की गोरक्षों ने गोतस्करी के संदेह में पीट-पीटकर कर किया मर्डर

अलवर में अकबर नाम के शख्स की गोरक्षों ने गोतस्करी के संदेह में पीट-पीटकर मर्डर कर दी थी.इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी  अकबर के दोस्त असलम ने पुलिस शिकायत में बोला कि गोरक्षको बोल रहे थे, ‘विधायक हमारे साथ है. कोई हमारा कुछ नहीं कर सकता है. इसपर (अकबर) आग लगा दो.‘ यहां से बीजेपी के ज्ञानदेव आहूजा विधायक हैं. पहले उन्होंने गोरक्षों का बचाव किया था.
Related image

हालांकि अब उन्होंने इन दावों को खारिज कर दिया है  बोला है कि यह उनकी छवि बेकार करने के लिए भ्रष्ट पुलिस की साजिश है. रविवार को पुलिस ने असलम के बयान रिकॉर्ड किए थे. जिसमें उसने पांच हमलावरों के नाम बताए थे. जिसके बाद पुलिस ने तीन लोगों को अरैस्ट कर लिया था.अकबर के साथ असलम अलवर गौ माता खरीदने के लिए आया था. वापस जाते समय आदमियों के एक समूह ने उन्हें देखा  पीछा करने लगे.

पुलिस को दिए बयान के अनुसार दोनों दो गायों के साथ लालवंडी गांव से होकर गुजर रहे थे. रास्ते में एक मोटरसाइकिल ने उनका रास्ता रोका. उसकी तेज आवाज से गौ माता चौंक गई  पास के कपास के खेत में दौड़कर चली गईं. खेत में सात लोग मौजूद थे जिसमें से पांच एक दूसरे को धर्मेंद्र यादव, परमजीत सिंह, नरेश, विजय  सुरेश के नाम से बुला रहे थे. इन आदमियों ने अकबर को जमीन पर गिरा दिया  उसे डंडों से पीटना प्रारम्भ कर दिया जबकि दो निगरानी कर रहे थे.

Loading...

असलम खेत में ही मौजूद था  हमलावरों को उसने कहते हुए सुना, ‘विधायक हमारे साथ हैं, कोई हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकता.‘ असलम किसी तरह वहां से बच निकलने में पास रहा. वहीं पुलिस के बयान ने एक नया टकराव खड़ा कर दिया है. पहले लोकल नेता ज्ञानदेव आहूजा ने बोला था कि गोरक्षों ने नहीं बल्कि अकबर की मौत पुलिस कस्टडी में हुई है.

loading...

इसी बीच ऑल इंडिया मेवात समाज के रमजान चौधरी का कहना है, ‘इसमें कोई संदेह नहीं है कि हमलावर लोकल नेताओं के बारे में बात कर रहे थे.‘ उन्होंने खुद इस तरह का बयान जारी किया है.जैसे, ‘वह मेरे आदमी थे. मैंने उनसे बोला था कि अकबर की थोड़ी पिटाई करो फिर उसे पुलिस के हवाले कर दो.‘ हालांकि आहूजा का कहना है कि यह उनकी छवि बेकार करने की एक साजिश है.

Loading...
loading...