Monday , November 19 2018
Loading...

एक करोड़ की फिरौती के लिए एलआईसी एजेंट की हत्या

दिल्ली के सराय रोहिल्ला से एक करोड़ रुपये की फिरौती के लिए एलआईसी एजेंट को अगवा कर मर्डर कर दी गई. मृतक की पहचान प्रेम कुमार (27) के रूप में हुई है. फिरौती  मर्डर का पूरा षडयंत्र उत्तर प्रदेश पुलिस के एक सिपाही और आरपीएफ के जवान ने रचा.
Image result for एक करोड़ की फिरौती के लिए एलआईसी एजेंट की हत्या

पुलिस ने मर्डर की गुत्थी से पर्दा उठाते हुए आरपीएफ के जवान अजय (35) को अरैस्ट कर लिया है.पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर प्रेम का मृत शरीर इटावा, उत्तर प्रदेश स्थित गंग नहर से बरामद किया है. दोनों ने मृत शरीर को एक बक्से में डालकर नहर में फेंक दिया था.

पहचान छुपाने को मृतक का चेहरा कुचल दिया था. वारदात के बाद से सर्वेश फरार है. पुलिस की मानें तो सर्वेश अलीगढ़ के बन्ना देवी थाने में तैनात है. पुलिस तलाश में जुटी है.

Loading...

पुलिस के मुताबिक, प्रेम कुमार अपने परिवार के साथ वेस्ट मोती बाग इलाके में रहता था. परिवार में पिता रमेश चंद्र, मां मुक्तेश्वरी देवी, बड़ा भाई राजकुमार और दो बहनें हैं. प्रेम कुमार  उसके पिता एलआईसी एजेंट थे, जबकि राजकुमार दिल्ली के एक बैंक में असिस्टेंट मैनेजर है.

loading...

अजय पुराना क्लाइंट था, ऐसे बुलाया प्रेम को अपने घर

अजय आरपीएफ दिल्ली स्थित सराय रोहिल्ला स्टेशन पर तैनात है  दया बस्ती स्थित सरकारी क्वार्टर में रहता है. अजय, प्रेम कुमार का पुराना क्लाइंट था. 17 जुलाई को उसने प्रेम को कॉल किया  बोला कि उत्तर प्रदेश पुलिस में तैनात उसके दोस्त सर्वेश को एक करोड़ की बीमा पॉलिसी करानी है.

वह जान पर खेलकर एनकाउंटर करता है, इसलिए उसे पॉलिसी जल्दी करानी है. 18 जुलाई को प्रेम दया बस्ती स्थित अजय के घर पहुंचा, जहां उसे सर्वेश भी मिला. कुछ कागजात लेने के बाद अगले दिन आने की बात हुई.

एक करोड़ की पॉलिसी को लेकर प्रेम कुमार भी बहुत ज्यादा उत्साहित था. उसने परिवार को अजय सर्वेश के बारे में बताकर एक करोड़ की पॉलिसी की जानकारी दी थी. 19 जुलाई को प्रेम, अजय सर्वेश के पास पहुंचा लेकिन वापस नहीं लौटा.

इधर, उसका मोबाइल भी बंद आने लगा. परिजनों ने तलाश प्रारम्भ की. देर रात बेटे की गुमशुदगी इंद्रलोक पुलिस चौकी में दी. पुलिस ने छानबीन की तो प्रेम की बुलेट मोटर साइकिल अजय के घर के पास से बरामद हो गई. परिजनों ने भी अजय  सर्वेश पर मर्डर का संदेह जताया. इधर, अजय सर्वेश के नंबर भी बंद आते रहे.

पुलिस ने अजय  सर्वेश पर संदेह कर उनकी तलाश प्रारम्भ की. 19 जुलाई की रात 12 बजे सर्वेश का मोबाइल ऑन हुआ. पुलिस ने सर्वेश से संपर्क किया तो उसने बताया कि वह टुंडला एक विवाह में अजय के साथ आया हुआ है.

अजय से बात करने पर उसने बताया कि प्रेम दिन में ही चला गया था. पुलिस ने 20 जुलाई को अजय को पूछताछ के लिए बुलाया. अजय पूछताछ में शामिल हुआ. शुरूआत में उसने पुलिस को भ्रमितकरने का कोशिश किया, लेकिन वह टूट गया. उसने बताया कि सर्वेश के साथ मिलकर उसने प्रेम को अगवा कर फिरौती मांगने की योजना बनाई.

पॉलिसी के बहाने उसे बुलाया. 19 जुलाई को उसे बंधक बनाने का कोशिश किया गया, लेकिन भागने के चक्कर में रस्सी से उसका गला दब गया, जिससे वह मर गया. दोनों ने मृत शरीर को एक लोहे के बक्से में डाला. बाद में गाड़ी से बक्सा लेकर वह इटावा चले गए.

मृतक की पहचान छिपाने को उसका चेहरा कुचल दिया तथा मृत शरीर को रात के समय गंग नहर में फेंक दिया. इधर, पुलिस ने अजय की निशानदेही पर प्रेम का मृत शरीर रविवार दोपहर गंग नहर इटावा से बरामद कर लिया. पुलिस सर्वेश की तलाश कर रही है.

Loading...
loading...