Saturday , October 20 2018
Loading...
Breaking News

फिल्मों में फाइट सीन देखकर कराटे सीखने का बनाया मन

कहते हैं कि हौंसला हो तो मुश्किलें क्या हैं. मुश्किलों से लड़कर ही तो हर राह सरल होती है  सपने साकार होते हैं. चुनौतियों से लड़कर अपने सपने को साकार करने वाले मेरठ के सिराज अहमद भी ऐसे ही लोगों में से एक हैं. अपनी मेहनत  लगन के बल पर वह कई नेशनल कराटे प्रतियोगिताएं जीत चुके हैं.  आज वह खिलाड़ियों को कराटे का प्रशिक्षण देते हैं.
Image result for फिल्मों में फाइट सीन देखकर कराटे सीखने का बनाया मन

लिसाड़ी गेट निवासी सिराज अहमद ने फिल्मों में फाइट सीन देखकर कराटे सीखना प्रारम्भ किया अब वह कराटे के खिलाड़ी बन गए. अपनी मेहनत  लगन के बल पर उन्होंने नेशनल तक का सफर पूरा किया. कई पदक जीते. आज वह कोच की किरदार अदा कर रहे हैं. उनके मन में एक ही टीस है कि कभी अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेने का मौका नहीं मिला. अब वह खिलाड़ियों को तैयार कर उनके जरिये अपने सपने का साकार करने में जुटे हैं.

फाइट सीन देखकर बनाया कराटे सीखने का मन
30 वर्षीय सिराज अहमद के अनुसार 8 वर्ष की आयु में फिल्मों में फाइट के सीन देखे थे. तभी से कराटे सीखने का मन बना लिया. लेकिन परिजनों का भय  आर्थिक स्थिति निर्बल होने के कारण सीख नहीं पाया. बकौल सिराज कई बार क्लब में जाकर कराटे सीखने की बात की, लेकिन महंगी फीस के कारण नहीं सीख पाया. पार्क में एक्सरसाइज करने वाले राजू ने प्रारम्भ में कराटे की ट्रेनिंग देने प्रारम्भ की. एक दोस्त को साथ कराटे सीखने के लिए तैयार किया. दोस्त ने ड्रेस और फीस का बंदोबस्त किया. दोनों ने क्लब में सीखना प्रारम्भ किया. छह माह बाद क्लब बंद हो गया.
इसके बाद रामसहाय इंटर कॉलेज में एक्सरसाइज किया. यहां प्रेक्टिस फीस 350 रुपये थी. जिसके लिए 300 रुपये माह की दो घंटे की जॉब की. मुश्किल परिश्रम के कारण यदू होटल में हुई कराटे प्रतियोगिता में भाग लिया  स्वर्ण पदक जीता. 11 वर्ष की आयु में पदक ने टॉनिक का कार्य किया.कुछ समय बाद ब्रह्मपुरी स्थित संत विवेकानंद स्कूल में खुद बच्चों को सिखाना प्रारम्भ किया अपनी फीस जमा करनी प्रारम्भ की.

सिराज के मुताबिक ब्रह्मपुरी निवासी अमित गुप्ता ने उनके कॅरियर में मदद की. उन्हें दूसरे खिलाड़ियों से मिलवाकर प्रैक्टिस कराई. उन्होंने दिल्ली उत्तराखंड, पंजाब, मुंबई, गुरुग्राम में आयोजित कई प्रतियोगिताओं में भाग लिया है. सिराज अहमद कई स्कूलों में कराटे सिखा चुके हैं.वर्तमान में वह सेंट जोंस में कोच हैं.

Loading...
साल 2001 में मेरठ के कैलाश प्रकाश स्टेडियम में हुई प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक प्राप्त किया. वर्ष2004 में हुई नेशनल कराटे चैंपियनशिप मद्रास में स्वर्ण पदक जीता इसके अतिरिक्त 2006 में गाजियाबाद में आयोजित की गई नेशनल प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक हासिल किया. यही नहीं वह  साउथ एशिया चैंपियनशिप में रजत पदक  2007- नेशनल चैंपियनशिप अंधेरी स्पोर्ट्स क्लब मुंबई में स्वर्ण पदक हासिल कर चुके हैं. इसके अतिरिक्त भी सिराज ने कई प्रतियोगिताओं में रजत, कांस्य पदक जीते हैं.
Loading...
loading...