Monday , December 17 2018
Loading...

हेल्थकेयर सेक्टर में निवेश करने से मिलेगा बेहतर रिटर्न

लोगों की बढ़ती आय, सेहत को लेकर बढ़ रही जागरूकता, उपचार की तकनीक में सुधार, सेहत बीमा को लेकर बढ़ती जागरूकता ने राष्ट्र में हेल्थकेयर सेक्टर को तेजी से बढ़नेवाले सेक्टर में शामिल कर दिया है. साथ ही गवर्नमेंट द्वारा हेल्थयेकयर सुविधा देने पर फोकस से भी यह सेक्टर एक चमकता हुआ सेक्टर बन गया है. गवर्नमेंट ने भी फार्मा विजन 2020 के जरिये हिंदुस्तान को वैश्विक स्तर पर निर्माण के एरिया में अग्रणी बनाने का संकल्प जाहीर किया है. ऐसा इसलिए, क्योंकि पश्चिमी राष्ट्रोंकी तुलना में हिंदुस्तान में उत्पादन की लागत 40 प्रतिशत कम है. फार्मा सेक्टर का अर्थ केवल दवाइयों से नहीं, बल्कि फार्मा, हेल्थकेयर  डाइग्नोस्टिक्स (पीएचडी) से है जो एक वृहत्तर फैला हुआ एरिया है.

बार-बार नहीं आता ऐसा मौका
हेल्थकेयर, फार्मास्युटिकल्स  डाइग्नोस्टिक्स का रुझान इस समय अच्छा लग रहा है. जैसे-जैसे लोगों के रहन सहन का स्तर पर बढ़ रहा है,  लोग उम्रदराज भी होने लगे हैं, वैसे-वैसे हेल्थकेयर का एरिया भी अगले 20-30 वर्षों में अपने आप में एक बड़ी मांग पैदा करने वाला है. इस थीम का सबसे बड़ा लाभ यह है कि पिछले तीन वर्षों में इसने कमतर प्रदर्शन किया है. अतएव आपके पास ऐसा मौका बार-बार नहीं आता कि आप ऐसे सेक्टर को चुनें जिसने पिछले तीन वर्षों में कमतर प्रदर्शन किया हो  अगला आनेवाला कुछ वर्ष अपार संभावनाओं से भरा हो. यह आपको प्रवेश करने का एक सुनहरा मौका देता है.

आकर्षक मूल्यांकन
इनका मूल्यांकन भी बहुत ज्यादा सुन्दर है. आप जब भी पीएचडी फंड जैसी किसी थीम में खरीदारी करते हैं तो इसका तात्पर्य होता है कि आपने कई शेयरों में खरीदारी की है.  चूंकि आपने एक साथ कई शेयरों में खरीदारी की है, तो इससे आपके एफडीए या इससे मिलती जुलती कंपनी की दूसरी समस्याओं में जकड़ने की संभावनाएं बहुत ज्यादा कम हो जाती हैं.

Loading...

विविधीकरण वाला सेक्टर
अगर आप अपनी पूंजी में वृद्धि चाहते हैं  किसी सेक्टर का चयन करना चाहते हैं तो आप मूल्यांकन के लिहाज से पीएचडी सेक्टर को चुन सकते हैं. यह सेगमेंट स्थिर और मैच्योर है  इसमें वृद्धि की अच्छी संभावनाएं हैं. पीएचडी सेक्टर पूरी तरह से विविधीकरण वाला है जिसमें फिटनेस, हेल्थकेयर, फूड्स, जिम्स, सेहत बीमा, वेलनेस, हॉस्पीटल्स  अन्य का समावेश है. डाइग्नोस्टिक्स का व्यवसाय एक गंभीर सेगमेंट है  इसमें सेहत बीमा का भी समावेश है. लोग बेहतर सेहत वाली सुविधाओं को पसंद करते हैं  ऐसे में हास्पिटलों की बढ़ती संख्या निवेशकों के लिए एक मौका प्रदान करती है.

loading...

उम्र दराज लोगों पर खर्च

आने वाले सालों में हिंदुस्तान की प्रति आदमी आय में अच्छी वृद्धि होगी  इससे खपत में भी बढ़ोत्तरी होगी, जिससे सेहत पर खर्च कई गुना बढ़ सकता है. जब लोगों की आय बढ़ती है तो सामान्य तौर पर हेल्थकेयर में फिटनेस, डाइग्नोस्टिक्स  हॉस्पीटल केयर जैसे खर्च भी बढ़ते हैं.हिंदुस्तान बड़ी आबादी वाला राष्ट्र है, जहां 16 करोड़ उम्रदराज नागरिक हैं  इनके हेल्थकेयर में अच्छा खासा खर्च हो सकता है.

शेयरों में तेजी की उम्मीद
लंबी अवधि में फार्मा एक निरंतर प्रदर्शन वाला सेक्टर है  पिछले तीन वर्षों में कई मुद्दों की वजह से इंडियन फार्मा कंपनियों के शेयरों की जमकर पिटाई हुई है. लेकिन अब स्थिति बदल रही है  फार्मा कंपनियों के शेयरों में अच्छी तेजी देखी जा रही है. इसी तरह हास्पिटल सेक्टर भी तेजी से बढ़ रहा है आनेवाले समय में 2025 तक 30 लाख अलावा बिस्तरों की आवश्यकता होगी. जिससे प्रति 1,000 आदमी पर तीन बिस्तर का औसत होगा.

बढ़ रहा है मेडिकल टूरिज्म
हिंदुस्तान में मेडिकल टूरिज्म भी एक सेगमेंट है जहां अच्छा खासा खर्च होता है. इसके लिए डाइग्नोस्टिक्स एक  सेगमेंट है जिसमें संगठित एरिया अभी बहुत ज्यादा विस्तार कर रहा है. आने वाले सालों में ऐसी उम्मीद है कि सिर्फ डाइग्नोस्टिक्स उद्योग ही 380 अरब रुपये का होगा, जिसमें संगठित कंपनियों का भाग 23 प्रतिशत होगा. यह इस समय 15 प्रतिशत का है.

Loading...
loading...