Sunday , November 18 2018
Loading...
Breaking News

कई मायनों में महत्वपूर्ण होगा पीएम मोदी का पूर्वांचल दौरा

दो दिन। सांगठनिक दृष्टि से भाजपा के दो क्षेत्र। तीन कमिश्नरी और तीन दलों के सांसद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 14-15 जुलाई को पूर्वांचल दौरा कई मायनों में महत्वपूर्ण साबित होने जा रहा है।

दौरे में स्वच्छ भारत अभियान और इज्जत घरों से गांवों की बेहतरी और हाल में बढ़ाए गए फसलों समर्थन मूल्य के साथ-साथ विकास कार्यों पर फोकस करने के साथ-साथ पिछड़ों, अति पिछड़ों, दलितों और अल्पसंख्यकों को मिशन 2019 में भागीदारी के लिए तैयार किया जाएगा। तीनों जनसभाएं ग्रामीण क्षेत्र में होनी हैं।

2014 में बतौर पीएम दावेदार मोदी ने तीनों मंडल की 12 सीटों में से वाराणसी, आजमगढ़, लालगंज, गाजीपुर, मऊ और बलिया के ग्रामीण क्षेत्रों में ही सभाएं की थीं।

Loading...

सपा-बसपा गठबंधन के बाद घोषित तौर पर कार्यक्रम भले ही चुनावी शंखनाद न हों पर मतदाताओं को सपा सुप्रीमो रहे मुलायम सिंह की संसदीय सीट आजमगढ़ को इस बार हर हाल हासिल करने और अपना दल (एस) के साथ गठबंधन को और मजबूती करने के अलावा पीएम मोदी द्वारा चार साल में अपने संसदीय क्षेत्र में कराए गए कार्यों का हिसाब-किताब देकर वाराणसी से ही दोबारा चुनाव लड़ने का संकेत दिया जाएगा।

loading...

दो दिन का दौरा उन क्षेत्रों-जिलों में नहीं रखा गया है, जहां के कुछ मौजूदा सांसदों का टिकट कटने की अटकलें हैं। पीएम मोदी के दौरे से पहले चार जुलाई को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मिर्जापुर दौरे में साफ कर चुके हैं कि स्थानीय सांसद केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल के साथ गठबंधन को और सशक्त करेंगे।

समझा जा रहा है कि सुभासपा अध्यक्ष और प्रदेश के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर की नाराजगी को मंत्रिमंडल विस्तार में कम करने की कोशिश की जाएगी।

2017 के विधानसभा चुनाव में आजमगढ़ को छोड़ दें तो तीनों मंडल की 61 सीटों के नतीजों ने साबित कर दिया है कि पूर्वांचल में अद (एस) और सुभासपा के साथ गठबंधन का शाह का प्रयोग कारगर रहा है।

अध्ययन और आंकड़ों को बनाया गया आधार

भाजपा अध्यक्ष शाह की टीम के अध्ययन के आधार पर तैयार दौरों का अंकगणित है। आंकड़ों के हिसाब से तीनों जिलों के दौरे वाले इलाकों में चुनाव के दौरान यादव, पटेल, राजभर मौर्य के अलावा अल्पसंख्यक मतदाता प्रभावी भूमिका निभाते हैं।

मुलायम सिंह के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ में 2021 तक पूरा होने वाले पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर 11836.02 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। सभा स्थल मंदुरी हवाई पट्टी गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र और शिलान्यास स्थल निजामाबाद विधानसभा क्षेत्र में है। दोनों क्षेत्रों से सपा के विधायक हैं। दोनों विधानसभाओं में यादव ज्यादा हैं। 2017 में जिले की 10 में से पांच पर सपा और चार पर बसपा जीती थी।

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के क्षेत्र मिर्जापुर के मंझवा विधानसभा क्षेत्र के चंदईपुर गांव में पीएम मोदी एक बार फिर लोगों से रूबरू होंगे। इस बार वह 3500 करोड़ रुपये की बाणसागर परियोजना के साथ-साथ चुनार पुल समेत 10129 करोड़ की परियोजनाओं के लोकार्पण के साथ ही 250 करोड़ से पिपराडाड में बनने वाले मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास करेंगे।

मंझवा से 2012 तक लगातार तीन बार बसपा के विधायक रहे हैं। इस समय यहां से भाजपा की सुचिष्मिता मौर्य विधायक हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मुताबिक अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पीएम मोदी 937.95 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास करेंगे।

इसके बाद यह आंकड़ा 30 हजार करोड़ को पार कर जाएगा। 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले जब मोदी ने राजातालाब के खजुरी में सभा की थी। तब सेवापुरी क्षेत्र से सपा के पूर्व मंत्री सुरेंद्र पटेल विधायक थे।

अब यह सीट अद (एस) के पास है। पटेल बहुल कचनार गांव में पीएम मोदी अपने मन की बात कहेंगे। विधानसभा चुनाव में रोहनिया और सेवापुरी क्षेत्र के सीमावर्ती गांव खुशीपुर में उनकी सभा होने से सपा को दोनों सीटें गंवानी पड़ गई थीं।

Loading...
loading...