Saturday , July 21 2018
Loading...

नाईक के प्रत्यर्पण संबंधी हिंदुस्तान की मांग को सरलता से नहीं मानेंगे

मलेशिया के पीएम महातिर मोहम्मद ने मंगलवार को बोला कि विवादित मुस्लिम उपदेशक जाकिर नाईक को प्रत्यर्पित करने संबंधी हिंदुस्तान की मांग को उनकी सरकारी सरलता से नहीं मानेगी  नाईक कथित रूप से आंतकवादी गतिविधियों  धन शोधन के मामले में हिंदुस्तानको वांछित है

Loading...

न्यू स्ट्रेट्स टाइम्स की समाचार के अनुसार, नाईक से मिलने के तीन दिन बाद मलेशिया के पीएम ने बोला कि उनकी गवर्नमेंट यह सुनिश्चित करेगी कि किसी भी मांग को सुनने से पहले सभी पहलुओं पर विचार किया जाए

‘सभी पहलुओं पर ध्यान देना होगा’
नाईक से शनिवार को हुई मुलाकात के बाद पहली सार्वजनिक टिप्पणी में महातिर ने बोला , ‘हम दूसरों की मांग सरलता से नहीं मानते हैं जवाब देने से पहले हमें सभी पहलुओं पर ध्यान देना होगा’ उन्होंने बोला कि ऐसा नहीं करने की स्थिति में कोई आदमी पीड़ित बन सकता है

मलेशिया के स्थाई निवासी का दर्जा प्राप्त नाईक को प्रत्यर्पित करने संबंधी हिंदुस्तान की मांग से जुड़े सवालों पर महातिर ने बोला , किसी भी मांग को मानने से पहले उनकी गवर्नमेंट सभी पहलुओं पर गौर करेगी

नाइक ने जताया मलेशिया गवर्नमेंट का आभार
इस बीच, नाईक ने मलेशिया में रहने देने  उसके मामले पर तर्कपूर्ण तरीके से गौर करने के लिए मलेशिया गवर्नमेंट  पीएम महातिर का धन्यवाद जाहीर किया स्टार औनलाइन की समाचार के अनुसार, नाईक ने बोला कि उसे मलेशिया के विविधता भरे समाज का भाग बनकर अच्छा लग रहा है वह इसकी संवेदनशीलता को सलाम करता है वह कभी भी, किसी भी रूप में इसके संतुलन को बेकार नहीं कर सकता किसी भी सूरत में राष्ट्र के कानून का उल्लंघन नहीं कर सकता

 

Loading...