Tuesday , September 25 2018
Loading...
Breaking News

जानें पाक के चुनाव में कितना अहम है कश्मीर मुद्दा?

पाकिस्तान पूरी संसार में कश्मीर को मुद्दा बनाने की प्रयास करता है लेकिन हकीकत ये है कि पाककी जनता के लिए अब कश्मीर कोई मुद्दा नहीं है  पाक में चुनाव होने वाले हैं  आज हमारे पास पाककी तीन बड़ी राजनीतिक पार्टियों के घोषणापत्र हैं  इन तीनों ही पार्टियों के घोषणापत्रों में कश्मीर का मुद्दा आखिरी के पन्नों पर है  इसका मतलब ये है कि पाक के नेताओं को भी ये पता है कि अब वहां सिर्फ कश्मीर के नाम पर कोई वोट नहीं देगा

मेरे हाथ में नवाज़ शरीफ की पार्टी ‘पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज़’ का घोषणापत्र है  ये 68 पन्नों का घोषणापत्र है जिसके पेज नबंर 61 पर कश्मीर के मुद्दे का ज़िक्र है  इसमें साल 2018 से साल2023 के कार्यकाल के लिए एक वादा किया गया है  इसमें लिखा है कि नवाज़ शरीफ की पार्टी कश्मीर  Palestine के पीड़ित लोगों  रोहिंग्याओं के साथ एकजुटता जाहीर करती है  उनका समर्थन करती है 

Loading...

अब यहां दिलचस्प बात ये है कि साल 2013 के घोषणापत्र में नवाज़ शरीफ की पार्टी ने कश्मीर पर लंबे-चौड़े वादे किए थे  साल 2013 का घोषणापत्र 100 पन्नों का है  इसके पेज नंबर 82 पर कश्मीर के मुद्दे का ज़िक्र है  इसमें लिखा है कि जम्मू  कश्मीर के मुद्दे को हल करने के लिए विशेष कोशिश किए जाएंगे    संयुक्त देश के प्रावधानों, साल 1999 के लाहौर समझौते  कश्मीर के लोगों की उम्मीदों के मुताबिक इस मुद्दे को हल करने की प्रयास की जाएगी 

loading...

यहां Note करने वाली बात ये है कि पाक मुस्लिम लीग नवाज़ ने 2013 के घोषणा लेटर में कश्मीर के मुद्दे पर 47 शब्द समर्पित किए थे  लेकिन 2018 के घोषणापत्र में कश्मीर को सिर्फ 14 शब्दों में निपटा दिया गया है  यानी कश्मीर के मुद्दे के प्रति नवाज़ शरीफ  उनकी पार्टी की कोई निष्ठा नहीं है 

अब इमरान खान की पार्टी – पाक तहरीके इंसाफ का घोषणापत्र देखिए ये घोषणापत्र 58 पन्नों का है  इस घोषणा लेटर में पेज नंबर 55 पर कश्मीर के मुद्दे का ज़िक्र है   इमरान खान की पार्टी ने कश्मीर के मुद्दे को राष्ट्र की राष्ट्रीय सुरक्षा से जोड़ते हुए लिखा है कि वो कश्मीर टकराव का हल करने के लिए संकल्पबद्ध हैं 

इसके बाद पेज नंबर 56 पर ये बताया गया है कि वो अपने पड़ोसी के साथ विवादों का हल करने की प्रयास करेंगे कश्मीर का ज़िक्र करते हुए इसमें लिखा है कि United Nations Security Council के मुताबिक कश्मीर के मुद्दे को हल करने के लिए एक blueprint पर कार्य किया जाएगा  पाक के अंदर स्थायी शांति की प्रयास होगी  हमारे पड़ोसी हिंदुस्तान के साथ शांति की प्रयास होगी  प्रयत्नके निवारण  योगदान के लिए प्रयास की जाएगी 

और ये Pakistan Peoples Party का घोषणापत्र है  ये घोषणापत्र 62 पन्नों का है  इसके पेज नंबर 59 पर कश्मीर के मुद्दे का ज़िक्र है  इसमें लिखा है<<Gfx-IN>>
कि हम ये मानते हैं कि जो देश, जम्मू व कश्मीर जैसे अंतरराष्ट्रीय शांति  सुरक्षा के मुद्दों पर United Nations Security Council के प्रस्तावों का उल्लंघन करते हैं  उन्हें Security Council में special status नहीं मिलना चाहिए 

आसान भाषा में समझने की प्रयास करें तो पाक मुस्लिम लीग नवाज़ के 68 पन्नों के घोषणापत्र में कश्मीर का ज़िक्र 61वें पेज पर है 

पाकिस्तान तहरीके इंसाफ के 58 पन्नों के घोषणापत्र में कश्मीर का मुद्दा 55  56वें पेज नंबर पर है 

और Pakistan Peoples Party के 62 पन्नों के घोषणापत्र में कश्मीर का मद्दा 59वें पेज नंबर पर है 

पाकिस्तान की तीनों ही प्रमुख राजनीतिक पार्टियों ने कश्मीर के मुद्दे को आखिरी पन्नों पर स्थान दी है

इन तीनों ही पार्टियों के घोषणापत्रों के अध्ययन से ये पता चलता है कि ये सभी पार्टियां हिंदुस्तान से बहुत अच्छे संबंध चाहती हैं  ये तीनों ही पार्टियां चाहती हैं कि पाक  हिंदुस्तान के बीच व्यापारिक संबंध मजबूत हों  लेकिन कश्मीर के मुद्दे को इन पार्टियों ने कोई अहमियत नहीं दी है 

अगर एक  नज़रिए से पूरे मामले को समझने की प्रयास करें तो इमरान खान की पार्टी का नारा है नया पाक लेकिन उनके इस नए पाक में कश्मीर नहीं है 

नवाज़ शरीफ की पार्टी का नारा है वोट को इज़्ज़त दो लेकिन कश्मीर के मुद्दे को उन्होंने कोई इज्ज़त नहीं दी है

और पाक People’s पार्टी का नारा है बीबी का वादा निभाना है पाक बचाना है  इस नारे का मतलब है बेनजीर भुट्टो का वादा निभाना है पाक बचाना है    यानी कश्मीर पर कब्ज़ा करने के नारे लगाने के बजाए  पाक को बचाने की बातें हो रही हैं

Loading...
loading...