Tuesday , September 25 2018
Loading...
Breaking News

दक्षिण कोरियाई तकनीक से साफ होगा शहर का कूड़ा

अब दक्षिण कोरियाई तकनीक से शहर का कूड़ा साफ होगा. शहर में पड़े कूड़े के निस्तारण के लिए नोएडा प्राधिकरण ने एक कंपनी के साथ मंगलवार को करार किया. टेंडर प्रक्रिया से आई इस इंडियनकंपनी का दक्षिण कोरियाई कंपनी से जुड़ाव है  यह दक्षिण कोरियाई तकनीक से यहां कार्य करेगी.

एसीईओ राकेश कुमार मिश्र ने बताया कि जिस कंपनी को शहर में जगह-जगह पड़े कूड़े के निस्तारण का कार्य सौंपा गया है, वह कंपनी इंडियन है  तमिलनाडु में इसका कार्यालय है. इसका दक्षिण कोरियाई कंपनी के साथ टाईअप है.

बहुत ज्यादा समय से इसके लिए प्रक्रिया चल रही थी, जोकि मंगलवार को पूरी हो गई. अब कंपनी की ओर से अगले सात दिन में टीम नोएडा भेजी जाएगी. इसके बाद इसका कार्य प्रारम्भ हो जाएगा.

Loading...

यह टीम शहर में पड़े कूड़े का निस्तारण करेगी  बची हुई आरडीएफ को राजस्थान की सीमेंट कंपनी में भेजने का कार्य करेगी. कंपनी की ओर से शहर के पूरे कूड़े के निस्तारण के बाद अगले दो वर्ष के भीतर शहर को  बेहतर बना दिया जाएगा. यही नहीं जो नया कूड़ा होगा, उसके निस्तारण की भी व्यवस्था की जाएगी.

loading...

डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन पर खर्च होंगे 40 करोड़

नोएडा प्राधिकरण की ओर से डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन के लिए 40 करोड़ रुपये खर्च होंगे. इसके लिए एक एजेंसी को यह कार्य दिया जा रहा है. यह घरों के आगे कूड़ा रखने के लिए अलग-अलग रंगों के डब्बे देगी. इसमें गीला  सूखा कचरा रखा जाएगा.

यहां से कूड़ा उठाने के बाद पास के कांपेक्टर मशीन में कूड़े को डाला जाएगा. यह मशीन कूड़े को दबाकर ऐसा कर देती है कि तीन ट्रकों का कूड़ा एक ट्रक के बराबर हो जाए. इसके बाद इस कांपेक्टर को डंपिंग ग्राउंड ले जाया जाएगा. उस दौरान यहां दूसरा कांपेक्टर रख दिया जाएगा. ऐसे ही 40 कांपेक्टर शहर में लगेंगे.

शहर में लगेंगे प्लास्टिक एटीएम
दिल्ली की तर्ज पर नोएडा में भी प्लास्टिक एटीएम लगाने का कार्य प्रस्तावित है. हालांकि दूसरी स्थान प्लास्टिक एटीएम में प्लास्टिक डालने पर कुछ पैसे निकलते हैं, लेकिन यहां ऐसी व्यवस्था नहीं होगी, बल्कि यहां कुछ प्वाइंट मिलेंगे, जिसे बाद में दूसरी व्यवस्था के तहत कैश कराया जाएगा.फिल्हाल यह योजना पाइपलाइन में है  इसके लिए दूसरी कंपनियां नोएडा में कार्य प्रारम्भ करना चाहती हैं.

नोएडा प्राधिकरण कुछ एनजीओ के साथ करार कर रहा है. इसके तहत ऐसे एनजीओ की ओर से शहर के लोगों को जागरूक किया जाएगा. इसमें गीला  सूखा कचरा अलग-अलग करने के उपायों के अतिरिक्त डब्बों में डालने के लिए जागरूक किया जाएगा. इस तरह से प्राधिकरण का कार्य सरल हो पाएगा.

दो अन्य टेंडर प्रक्रिया शुरू
प्राधिकरण ने दो अन्य टेंडर प्रक्रिया प्रारम्भ की है. इसमें शहरों में स्वीपिंग मशीन के लिए टेंडर प्रक्रिया में है. इसके लिए कंस्ट्रक्शन वेस्ट के लिए भी टेंडर हो रहा है. प्राधिकरण के अधिकारियों की मानें तो यह सब 31 जुलाई तक फाइनल हो जाएंगे.

Loading...
loading...