Wednesday , November 21 2018
Loading...

उत्तराखंड में फिर बारिश का कहर

कुमाऊं में बागेश्वर जिले के कपकोट में मंगलवार की सुबह से हो रही बारिश से पहाड़ टूट गया। इस मलबे में कई वाहन दब गए। कपकोट में कई घरों में बरसात का पानी घुस गया। सोमवार से बागेश्वर में हो रही बारिश के कारण सरयू नदी भी उफान पर है। इससे लोगों में दहशत बनी हुई है। बारिश से बागेश्वर और पिथौरागढ़ में कई सड़कें बंद पड़ी हैं।

उधर, गढ़वाल के थराली सहित आस पास के क्षेत्रों में मंगलवार की तड़के हुई जोरदार बारिश से नालों और गधेरों का मलबा सड़क पर आ गया। जिससे थराली देवाल मुख्य मार्ग सहित छह अन्य लिंक मार्ग बंद हो गए हैं। कई जगह चटटानें टूटने से सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं। साथ ही तहसील मुख्यालय राड़ीबगड़ और केदारबगड़ में बरसाती नालों से मलबा आने से सड़क बंद हो गई। बाद में पीडब्ल्यूडी की जेसीबी मशीन ने आवागमन चालू किया।

बता दें कि मौसम विभाग ने उत्तराखंड के ज्यादातर क्षेत्रों में 10 और 11 जुलाई को जमकर बारिश होने की आशंका जताई है। मौसम विभाग ने 11 जुलाई तक लगभग पूरे कुमाऊं और गढ़वाल के अधिकांश क्षेत्रों में भारी बारिश की आशंका जताई है। इसको देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। विभाग के अनुसार 10 जुलाई को विशेषकर कुमाऊं के सभी जिलों और गढ़वाल के चमोली, पौड़ी एवं रुद्रप्रयाग में भारी बारिश हो सकती है। वहीं, 11 जुलाई को पूरे कुमाऊं क्षेत्र के साथ ही गढ़वाल के देहरादून, उत्तरकाशी और टिहरी जिलों में भी भारी से बहुत भारी बारिश की आशंका है। मौसम केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि बारिश को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है।

Loading...

घाट क्षेत्र में छह घंटे की बारिश ने मचाई तबाही

चमोली जिले के घाट क्षेत्र में छह घंटे की मूसलाधार बारिश ने तबाही मचाई है। चुफलागाड में उफान आने से कई हेक्टेयर कृषि भूमि मलबे में दफन हो गई। भैंटी-पथोली और कुंगुर्चा-स्यांरी पैदल मार्ग पर निर्मित पैदल पुलिया बह गई। घाट-भैंटी मोटर मार्ग अवरुद्घ हो गया, जो सोमवार को सुबह ग्यारह बजे वाहनों की आवाजाही के लिए खुल पाया। भारी बारिश से नदी किनारे बसे गांवों के ग्रामीणों में अफरा-तफरी मच गई। अनहोनी की आशंका से भयभीत ग्रामीण रात को अपने घरों को छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंच गए।

घाट क्षेत्र में रविवार को रात करीब 11 बजे शुरू हुई भारी बारिश सोमवार सुबह करीब पांच बजे थमी। इस दौरान चुफलागाड में उफान आने से किनारे बसे घाट, तेलांण, बांजबगड़, बंगाली, भेंटी, लांखी, सरपाणी, उस्तोली, सैंती, फाली, फरखेत, कुमजुग, मथकोट, सुंग-ल्वांणी, चरबंग, लुणतरा, कुरुड़ और घिंघराण गांव के ग्रामीणों में अफरा-तफरी मच गई। नदी से करीब 35 आवासीय भवनों को खतरा बना हुआ है।

loading...

जिला पंचायत सदस्य गुड्डू लाल, पंकज मैंदोली, नंदन सिंह रावत, शंभू प्रसाद और महिपाल सिंह का कहना है कि खेतों में भारी मलबा भरने से कृषि भूमि नष्ट हो गई है। जिलाधिकारी आशीष जोशी ने कहा कि घाट क्षेत्र में हुए नुकसान की रिपोर्ट तैयार की जा रही है। मौके पर तहसील प्रशासन की टीम भेजी गई है। अधिकारियों को त्वरित राहत कार्य और बंद मार्गों को सुचारु करने के निर्देश दिए गए हैं।

नदी नाले उफनाए, जगह-जगह फंसे रहे यात्री

रविवार रात हुई मूसलाधार बारिश से कुमाऊं  की नदियां और नाले उफान पर हैं। बागेश्वर में सरयू, गोमती, खीरगंगा और गांसू तो टनकपुर में बाटनागाड़ और किरोड़ानाले के साथ ही सभी गाड़-गधेरे उफान पर हैं। बनबसा में शारदा का जल स्तर बढ़ गया है। बागेश्वर में स्कूलों में आकस्मिक अवकाश घोषित कर दिया गया है। भूस्खलन और मलबा आने से बागेश्वर 12 सड़कें बंद हैं। कपकोट के नरगड़ा गांव में भूस्खलन से दो मकानों के आंगन में दरारें आ गईं। एहतियातन दोनों परिवारों को पंचायत भवन में शिफ्ट करा दिया गया। रैथल में उफनाई सरयू की चपेट में आकर सैकड़ों नाली उपजाऊ भूमि बह गई है। उधर, नाचनी में थल-मुनस्यारी मार्ग मलबा आने से रविवार रात 10 बजे बंद हो गया था, जिसे सोमवार दो बजे खोला जा सका।

धारचूला के आपदा प्रभावित क्षेत्रों में सोमवार को भी राहत और पुनर्निर्माण कार्यों के साथ ही लापता लोगों की खोजबीन का कार्य जारी रहा। धारचूला के हिमखोला से दो और मुनस्यारी के जैंती से एक व्यक्ति लापता है। सोमवार को मौसम खराब होने के कारण धारचूला से हेली सेवा का संचालन भी नहीं हुआ। पिथौरागढ़ के क्वीटी से 100 मीटर आगे सोमवार को एक बड़ा पेड़ जड़ से उखड़ कर सड़क पर आ गिरा। इससे यातायात बाधित हुआ। बाद में जेसीबी से पेड़ को हटाकर यातायात को बहाल किया गया। उधर, दो जुलाई की बारिश से नामिक की 50 किलोवाट की बिजली परियोजना क्षतिग्रस्त होने से गांव की बिजली आपूर्ति ठप है। नामिक के लोग आठ दिन से बगैर बिजली के रात काट रहे हैं। नामिक को जोड़ने वाले दोनों रास्ते क्षतिग्रस्त होने से गांव के 122 परिवार भारी मुसीबत में हैं।

रविवार रात से लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से पूर्णागिरि मार्ग पर किरोड़ा और बाटनागाड़ नाले के उफान में आने से करीब छह घंटे तक आवाजाही बंद रही। दोनों ओर यात्री फंसे रहे। संवेदनशील स्थानों पर पुलिस फोर्स तैनात रही। किरोड़ानाले दोनों ओर फंसे छात्रों को पुलिस ने अपने वाहनों से आर-पार कराया। कई यात्रियों ने जान जोखिम में डाल कर बाटनागाड़ नाले को पार किया। स्थानीय युवकों ने कई यात्रियों को नाला पार कराया।

पहाड़ों में हुई बारिश से बनबसा में शारदा का जलस्तर बढ़ गया। जल स्तर बढ़ने पर चार घंटे को शारदा बैराज पर रेड अलर्ट रहा । इस दौरान बैराज को वाहनों के आवागमन के लिए बंद कर दिया गया। देर शाम छह बजे का गेट खुलने पर बैराज के दोनों तरफ फंसे वाहन अपने गंतव्य को निकल गए।
Loading...
loading...