Friday , November 16 2018
Loading...

IPS अधिकारी का भाई बना हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी

भारत गवर्नमेंट  सेना लगातार इस प्रयास में जुटी है कि जम्मू व कश्मीर के युवा आतंकवादियों के बहकावे में आकर गलत रास्ते में पर न जाएं, लेकिन इसपर पूरी तरह लगाम नहीं लग पा रहा है ताजा मामला बेहद चौंकाने वाला है रविवार को आतंकवादी बुरहान वानी की दूसरी बरसी पर हिजबुल मुजाहिद्दीन ने एक युवा आतंकवादी की तस्वीर जारी की है हाथ में बंदूक थामे शमसुल हक मेंगनू (Shamsul Haq Mengnoo) नामक यह युवा आईपीएस अधिकारी का भाई हैशमसुल के छोटे भाई नॉर्थ-इस्ट कैडर में आईपीएस हैं चौंकाने वाली बात यह है कि शमसुल भी बीयूएमएस (बैचलर आफ यूनानी मेडिसन एंड सर्जरी) का विद्यार्थी है.

बताया जा रहा है कि यह युवा 22 मई से कश्मीर यूनिवर्सिटी से गायब होने के बाद हिजबुल में शामिल हो गया था हिजबुल की ओर से इस युवा की तस्वीर सोशल मीडिया पर जारी करते ही वायरल हो गई है बुरहान वानी की बरसी पर हिजबुल ने शमसुल के अतिरिक्त कई  युवा आतंकियों की तस्वीर सोशल मीडिया पर जारी की है

Loading...

25 वर्षीय शमसुल मूल रूप से दक्षिणी कश्मीर में स्थित शोपियां जिले के ड्रागुड (Draggud) गांव का रहने वाला है वरिष्ठ पुलिस ऑफिसर ने बताया कि टाइम्स ऑफ इंडिया से वार्ता में बताया कि शमसुल का छोटा भाई इनामुल हक वर्ष 2012 से नॉर्थ ईस्ट कैडर में बतौर आईपीएस अधिकारीपोस्टेड हैं 22 मई को जाकुरा पुलिस थाने में शमसुल के मां-पिता ने उसके गुमशुदा होने रिपोर्ट दर्ज कराई थी

loading...

उन्होंने बताया कि 25 मई को शमसुल ने हिजबुल में शामिल हो गया था हिजबुल ने इसका नाम बुरहान सैनी बताया है

मालूम हो कि पिछले दो वर्ष से कश्मीर के बहुत ज्यादा युवाओं ने आतंक की राह पकड़ ली है एक अनुमान के मुताबिक जितने भी आमंकी बने हैं उनमें करीब 50 प्रतिशत युवा हैं

शमसुल के पिता मोहम्मद रफीक मेंगनू ने पुलिस को बताया कि वह जकुरा कैंपस से बैचलर ऑफ यूनानी मेडीसिन एंड सर्जरी की पढ़ाई कर रहा था

सूत्रों का कहना है कि दर्जनों युवा बुरहान वानी के गांव सैइफाबाद (Shaiefabad) जुटे थे वे यहां बुरहान की कब्र पर श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे हालांकि सुरक्षा बलों ने आंसू गैस के गोले दागकर उन्हें वहां से हटा दिया था ऐहतियातन शनिवार से ही त्राल इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया है

Loading...
loading...