Wednesday , November 21 2018
Loading...

थाने में फोन ना उठाने की मिल रही थीं शिकायत, फिर भी नहीं लिया कोई एक्शन

मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में अब उन पुलिसकर्मियों और अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी जो फोन नहीं उठाते हैं। यह आदेश अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) ने दिए हैं। उन्हें लगातार शिकायतें मिल रही थीं कि जब भी लोग पुलिस थाने में फोन करते हैं तो कोई उनका फोन नहीं उठाता। जिसके बाद एडीजी ने तीन दिनों तक एक सर्वे करवाया। इस सर्वे में अंजान नंबरों से थानों और थाना प्रभारियों को फोन लगाए गए।
Related image

सर्वे में पता चला कि 40 फीसदी थानाध्यक्ष थाने में मौजूद ही नहीं थे। वहीं 20 फीसदी पुलिस थाने ऐसे हैं जहां पुलिसकर्मी फोन नहीं उठाते। एडीजी को इसके लिए गुमनाम शिकायत की गई थी। जिसके बाद जिले से 30 थानों पर तीन दिनों तक फोन लगाए गए। इसका समय था दोपहर 12 बजे और शाम 5 बजे।

मामले पर इंस्पेक्टर जनरल सोनाली दुबे ने बताया कि स्टाफ की मदद से 27 जून को 10 थानों पलासिया, बाणगंगा, हीरानगर, विजय नगर, खजराना आदि में फोन लगाया गया। इनमें से 40 फीसदी ने फोन हीं नहीं उठाया। इसमें यह भी पता चला कि दो थानाध्यक्ष थाने में मौजूद नहीं थे, एक अवकाश पर थे और तीन नदारद पाए गए। वहीं अन्य से फोन पर कोई संपर्क नहीं हो पाया।

Loading...

ऐसा ही एक सर्वे 4 अप्रैल को भी किया गया था। इस दौरान इन थानों ने फोन तो उठा लिया था लेकिन चार थानाध्यक्ष अनुपस्थित थे। मामले पर एडीजी अजयकुमार शर्मा का कहना है कि सभी पुलिसकर्मियों और अधिकारियों को फोन उठाने के निर्देश दिए गए हैं।

loading...

उन्होंने कहा कि सोशल पुलिसिंग के लिए जनता से संपर्क करना भी जरूरी है। यदि पुलिस मामले की शिकायत वक्त पर सुन ले तो अपराध रोकने में सहायता मिल सकती है। साथ ही जो भी पुलिसकर्मी लापरवाही बरतेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Loading...
loading...