X
    Categories: अंतर्राष्ट्रीय

अमीरात एयरलाइंस का बड़ा फैसला

 दुबई की विमान कंपनी अमीरात एयरलाइंस ने एक बड़ा फैसला लेते हुए विमान में हिंदू खाने (हिंदू मील) के विकल्प को बंद कर दिया है। अमीरात एयरलाइन ने घोषणा की है कि उनकी फ्लाइट्स में अब ‘हिंदू भोजन’ नहीं मिलेगा। कई अंतरराष्ट्रीय एयरलाइंस ने यात्रियों को यह सुविधा दी है कि वो विमान के अंदर अपने धर्म के आधार पहले से खाना बुक कर सकते हैं लेकिन अमीरात एयरलाइंस का अपने विमान में हिंदू खाने को बंद करने का फैसला बेहद ही चौंकाने वाला है।


समीक्षा के बाद लिया गया ये फैसला
अमीरात के आधिकारिक बयान के अनुसार वह कस्टमर्स को जो वस्तुएं और सेवाएं मुहैया कराते हैं, उनका लगातार रिव्यू करते हैं इसमें लोगों से फीडबैक भी लिया जाता है इसी के मद्देनजर हमने विमान के मेन्यू में से हिंदू भोजन के विकल्प को खत्म करने का फैसला किया गया है। बता दें कि अधिकांश बड़ी एयरलाइंस गैर-शाकाहारी यात्रियों के लिए यह विकल्प देती हैं जो बीफ (गोमांस) या पोर्क (सुअर का मांस) नहीं खाते हैं। एयर इंडिया और सिंगापुर एयरलाइंस भी अपने मेन्यू में धार्मिक आधार पर यात्रियों को भोजन उपलब्ध कराती हैं।

Loading...

हिंदू यात्री क्षेत्रीय शाकाहारी आउटलेट से खाना करवा सकते है बुक
अमीरात एयरलाइंस का कहना है कि हिंदू यात्री अपना खाना क्षेत्रीय शाकाहारी आउटलेट से पहले ही बुक करा सकते हैं। ये आउटलेट विमान के अंदर यात्रियों को खाने की सुविधा उपलब्ध कराते हैं। इन आउटलेट के पास कई तरह के खाने का विकल्प होता है, जैसे कि हिंदू खाना, जैन खाना, भारतीय शाकाहारी खाना, मांसाहारी खाना, बिना बीफ के खाना इत्यादि।

क्या होता है हिंदू मील? 

यह खाना खासतौर पर हिंदू समुदाय के यात्रियों के लिए होता है जो शाकाहारी नहीं होते और मीट, मछली, अंडा और डेरी प्रॉडक्ट्स खाते हैं। हालांकि, इस खाने में बीफ नहीं होता है। एयरलाइन ने कहा कि हिंदू यात्रियों को अभी भी शाकाहारी और मांसाहारी दोनों क्षेत्रीय प्रेरित भोजनों से चुनने में सक्षम होना चाहिए। अमीरात कई स्वास्थ्य और आहार संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए भोजन विकल्प भी प्रदान कर रहा है।

loading...
Loading...
News Room :