पुलिस उपायुक्त दीपक देवराज ने कहा कि ट्विटर हैंडल ‘@GirishK1605’का प्रयोग करने वाले एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज किया. प्रियंका ने सोमवार को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. इस ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया था कि वह प्रियंका की दस साल की बेटी का बलात्कार करेगा. कांग्रेसी प्रवक्ता ने अपनी शिकायत में कहा कि प्रोफाइल पिक्चर में भगवान राम की तस्वीर लगाने के बावजूद अज्ञात ट्विटर ट्रोल ने इस तरह की धमकी देने से पहले दो बार नहीं सोचा.

ऐसे दिया था प्रियंका ने जवाब
कांग्रेस प्रवक्ता चतुर्वेदी ने मूल ट्वीट और मुंबई पुलिस को टैग करते हुए ट्विटर पर कहा, ”भगवान के नाम से ट्विटर हैंडल चलाकर पहले तो मेरा गलत बयान लगाते हो, फिर मेरी बेटी के बारे में अभद्र टिप्पणी करते हो. कुछ तो शर्म करो. भगवान राम तुम जैसे नीच सोच वाले व्यक्ति को सबक सिखाएंगे.” काफी संख्या में लोगों ने कांग्रेस प्रवक्ता का समर्थन किया.चतुर्वेदी ने बताया कि उन्होंने अपनी बच्ची को बलात्कार की धमकी देने वाले एक ट्वीट के बाद पुलिस के पास एक शिकायत दर्ज कराई है. हालांकि , बाद में यह ट्वीट मिटा दिया गया था.
कांग्रेस ने बीजेपी पर बोला था हमला
कांग्रेस नेता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि सुषमा को भाजपा द्वारा तैयार किए गए राक्षस (ट्रोल) ही निशाना बना रहे हैं. सिंघवी ने कहा कि जिन्होंने चतुर्वेदी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की, उन्होंने केंद्रीय मंत्री तक को नहीं बख्शा है. सिंघवी ने कहा कि जो कोई ऐसे राक्षसों (ट्रोल) को तैयार करता है, उन्हें यह जरूर याद रखना चाहिए कि वह एक दिन उन्हें ही निगल जाएगा.

उन्होंने कहा कि सुषमा उन ट्रोल का शिकार बनी, जिन्हें उनकी पार्टी की सोच ने तैयार किया है. सिंघवी ने पूछा कि उनकी (सुषमा की) पार्टी के कितने लोगों ने इसकी निंदा की है.

राजनीतिक रंग नहीं दें- बीजेपी
सत्तारूढ़ पार्टी के प्रवक्ता नलिन कोहली ने चतुर्वेदी को इस मुद्दे को राजनीतिक रंग नहीं देने, बल्कि कानूनी उपाय करने को कहा. कोहली ने इस धमकी की निंदा की और इसे एक सभ्य समाज में खौफनाक और अस्वीकार्य बताया. कोहली ने कहा, ”यह पूरी तरह से निंदनीय है. खौफनाक है. यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है. यदि कोई व्यक्ति किसी भी उम्र की महिला को बलात्कार की धमकी देता है तो यह पूरी तरह से निंदनीय है. ऐसे लोगों को यह ध्यान में रखना चाहिए कि एक महिला किसी की बेटी, बहन या पत्नी हो सकती है. एक सभ्य समाज में यह अस्वीकार्य है. उन्होंने कहा, यदि एक व्यक्ति ने किसी को भी बलात्कार की धमकी दी है तो उन्हें (पीड़ित को) कानूनी उपाय करना चाहिए. प्रियंका जी को इसे राजनीतिक रंग नहीं देना चाहिए.

सुषमा के पक्ष में आए थे राजनाथ सिंह
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज एक हिंदू – मुस्लिम दंपती से जुड़े पासपोर्ट विवाद को लेकर ऑनलाइन अभद्र टिप्पणी का सामना कर रही हैं. इसके बाद विदेश मंत्री ने रविवार को टि्वटर पर एक सर्वेक्षण कर यूजर से पूछा कि क्या उन्होंने इस तरह की ट्रोलिंग को मंजूरी दी है? इस पर, 57 प्रतिशत लोगों ने नफरत भरे संदेशों का विरोध किया, जबकि 43 फीसदी ने हां के रूप में जवाब दिया. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्रोल करना गलत है. राजनाथ पहले ऐसे मंत्री हैं जो सुषमा के समर्थन में बोले हैं.