Tuesday , February 19 2019
Loading...
Breaking News

विधायकों की नाराजगी से महबूबा की मुश्किलें बढ़ीं

सरकार गिरने के कुछ ही दिनों बाद पीडीपी में कुछ विधायकों की नाराजगी खुलकर सामने आने से पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती की मुश्किलें बढ़ गई हैं. पार्टी में किसी प्रकार की टूटफूट होने से बचाने के लिए उन पर पार्टी का दबाव बढ़ा है. डैमेज कंट्रोल के लिए पांच से छह वरिष्ठ सदस्यों को लगाया गया है.
Image result for विधायकों की नाराजगी से महबूबा की मुश्किलें बढ़ीं

पूर्व मंत्री इमरान रजा अंसारी ने सोमवार को खुलकर महबूबा के विरूद्ध जहर उगला था. उन्होंने महबूबा को अक्षम तथा पार्टी में भाई-भतीजावाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए यहां तक बोला था कि उनकी वजह से ही गवर्नमेंट गिरी है. पीडीपी से जुड़े सूत्रों ने बताया कि आधा दर्जन से अधिक विधायक पार्टी प्रमुख की कार्यप्रणाली से नाराज हैं. कुछ मंत्री न बनाए जाने की वजह से तो कुछ मंत्रिमंडल से हटाने पर. कुछ पार्टी में तवज्जो न दिए जाने से.

इमरान का शिया समुदाय में बेहद गहरा असर है. उनकी नाराजगी पार्टी को भारी पड़ सकती है. इस वजह से आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी उन्हें नाराज नहीं करना चाहती है. उनकी मान मनौव्वल के लिए पार्टी उपाध्यक्ष सरताज मदनी तथा अन्य को लगाया गया है. दक्षिणी कश्मीर के भी तीन विधायक नाराज बताए जाते हैं. सियासी गलियारे में चर्चा है कि पूर्व मंत्री डा हसीब द्राबू, इमरान अंसारी सहित कुछ अन्य नेताओं की बीजेपी के साथ भी नजदीकियां हैं.

सज्जाद ने मोदी से मुलाकात से किया इनकार

पूर्व मंत्री तथा पीपुल्स कांफ्रेंस के विधायक सज्जाद गनी लोन ने पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की खबरों से मना किया है. उन्होंने ट्वीट कर बोला है कि यह सिर्फ अटकलबाजी है.उनकी मोदी से कोई मुलाकात नहीं है. ज्ञात हो कि सोशल मीडिया पर यह चर्चा चल रही थी कि राज्य में नयी गवर्नमेंट के गठन में लोन जरूरी किरदार निभा सकते हैं. इस सिलसिले में उनकी पीएम से मंगलवार को मुलाकात हुई है.

loading...