Wednesday , September 19 2018
Loading...

भगोड़े माल्या ने सपंत्ति बेचने के लिए लिया न्यायालय का सहारा

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने अपनी संपत्तियों को बेचने के लिए न्यायालय का सहारा लिया है. माल्या ने बोला है कि उसको जांच एजेंसियां बिना वजह बहुत परेशान कर रही थीं, जिसकी वजह से उसने अपना वक्तव्य जारी करना पड़ा.
Image result for भगोड़े माल्या ने
13900 करोड़ की है संपत्ति
माल्या ने बोला कि उसके पास करीब 13900 करोड़ रुपये की संपत्ति है, जिसको वो बेचना चाहता है. हालांकि यह संपत्तियां अभी जांच एजेंसियों और बैंकों के कब्जे में हैं. कर्ज के तले डूब कर बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस पर 17 बैंकों के कंशोर्सियम का करीब 9900 करोड़ रुपये बकाया है. इसको चुकाने से पहले माल्या राष्ट्र छोड़कर 2016 में लंदन शिफ्ट हो गया. लंदन की वेस्टमिंस्टर न्यायालय में भी हिंदुस्तान गवर्नमेंट की तरफ से प्रत्यपर्ण कराने के लिए पहले से मुकदमा चल रहा है.

कर्नाटक न्यायालय में दायर की याचिका
माल्या ने बोला कि उसने अपनी संपत्तियों को बेचने के लिए 22 जून को कर्नाटक न्यायालय में याचिका दायर कर दी है.

जांच एजेंसियों ने बना दिया बैंक धोखाधड़ी का पोस्टर ब्वाय

पिछले सप्ताह प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने विशेष न्यायालय से हाल में लाए गए भगोड़ा आर्थिक क्रिमिनल अध्यादेश, 2018 के तहत माल्या को ‘भगोड़ा आर्थिक अपराधी’ घोषित करने की मांग की थी. इस अध्यादेश के तहत दायर की गई यह पहली अर्जी है. माना जा रहा है कि माल्या ने इसके जवाब में ही अपनी सफाई पेश की है. माल्या ने बोला कि हिंदुस्तान में उसे बैंक धोखाधड़ी करने वालों का पोस्टर ब्वाय बना दिया गया है. उसका नाम आते ही लोग भड़क उठते हैं.

पीएम, वित्तमंत्री को लिखे लेटर का नहीं मिला जवाब
माल्या ने मंगलवार को बोला कि उसने कर्ज चुकाने की हर संभव प्रयास की. अब भी वह कर्ज चुकाने का कोशिश जारी रखेगा. उसके मुताबिक, उसने पीएम नरेंद्र मोदी  तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली को कर्ज के मामले में अपना पक्ष रखने के लिए 15 अप्रैल, 2016 को लेटर लिखा था, लेकिन दोनों की ओर से कोई जवाब नहीं मिला.

Loading...
Loading...
loading...