X
    Categories: प्रादेशिक

सिविल मामलों में देर रात दबिश न देने का आदेश

CM योगी ने उत्तर प्रदेश पुलिस को सिविल मामलों में देर रात दबिश नहीं देने का आदेश दिया है. मुख्यमंत्री ने बोला है कि जघन्य क्राइम के अभियुक्त के अतिरिक्त किसी भी सामान्य अपराध के अभियुक्त/वारंटी की गिरफ्तारी के लिए रात में दबिश नहीं दी जाएगी. आशियाना एरिया में अमिषा सिंह के घर देर रात पुलिस द्वारा दबिश देने  उनसे अभद्रता करने के मामले की समाचार अमर उजाला में प्रमुखता से प्रकाशित होने के बाद मुख्यमंत्री ने ये आदेश दिए हैं.

मालूम हो कि रविवार को साढ़े बारह बजे के करीब पुलिस आशियाना निवासी अरविंद सिंह के घर पहुंची. अरविंद सिंह की गैर मौजूदगी में घर पर घुसने की प्रयास की लेकिन उनकी पत्नी और बेटी ने दरवाजा नहीं खोला. अमीषा का आरोप है कि इस पर पुलिसकर्मी गाली-गलौज करते हुए गेट पर चढ़ गए.

अमीषा ने बताया कि वह अपने मोबाइल फोन से वीडियो बनाने लगी तो, एक पुलिसकर्मी ने मोबाइल फोन छीनकर रिकॉर्डिंग डिलीट कर दी. अमीषा ने ट्वीट करके पीएम नरेंद्र मोदी, CM योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश पुलिस  डीजीपी सहित अन्य अफसरों से शिकायत की. उसने लिखा कि वे बिना महिला कान्सटेबल के आए  गेट खटखटाया.

Loading...

अमीषा ने बताया कि उसके पिता रविवार को बाहर गए थे. घर पर मां के अतिरिक्त वह  उसका छोटा भाई प्रखर थे. आधी रात को किसी ने गेट खटखटाया तो वह बाहर निकली. बाहर करीब 15-20 पुलिसकर्मी खड़े थे. पुलिसवालों ने उसे देखते ही दरवाजा खोलने को कहा. वजह पूछने पर पुलिसकर्मी गाली-गलौज करने लगे. अमीषा ने वारंट मांगा लेकिन किसी ने कोई भी कागज नहीं दिखाया  गेट खोलने की बात कहते रहे. शोरगुल सुनकर उसकी मां और भाई भी बाहर आ गए.

loading...

बिना वारंट दिखाए गेट खोलने से इन्कार किया तो दी धमकी

अमीषा ने बिना वारंट दिखाए गेट खोलने से इन्कार कर दिया तो पुलिसवालों ने दरवाजा तोड़ने की धमकी दी. वह हंगामा मचाते हुए गेट पर चढ़ गए. अमीषा ने अपने मामा को फोन कर पूरे मामले की जानकारी दी  मोबाइल कैमरे से पुलिसवालों का वीडियो बनाने लगी. इस पर गेट पर चढ़े एक पुलिसकर्मी ने झपट्टा मारकर उसका मोबाइल फोन छीन लिया. अमीषा का कहना है कि सिपाही नेरिकार्डिंग डिलीट करके उसे मोबाइल वापस दे दिया  दोबारा आने की धमकी देते हुए चले गए.

सोमवार प्रातः काल अमीषा ने पूरी घटना के बारे में ट्वीट कर प्रधानमंत्री, CM से लेकर पुलिस के आला अधिकारियों को जानकारी दी. आशियाना थाने के प्रभारी निरीक्षक जितेन्द्र प्रताप सिंह का कहना है कि अरविंद सिंह के विरूद्ध न्यायालय से गैर जमानती वारंट जारी है इसलिए पुलिस उनके घर गई थी. उन लोगों ने पुलिस का अभद्रता भी की, जिसकी वीडियो रिकॉर्डिंग भी है. इसे जीडी में दर्ज कर लिया गया है. उधर, अरविंद का कहना है कि उन्होंने करीब दो वर्ष पहले साई प्लाईवुड के करन अग्रवाल से सामान खरीदने के बदले 82000 रुपये का चेक दिया था जो बाउंस हो गया. करन ने न्यायालय में चेक बाउंस का केस कर दिया.

Loading...
News Room :

Comments are closed.