Wednesday , August 15 2018
Loading...
Breaking News

11 शहरों के 12 स्टेडियमों में खेले जाएंगे 64 मुकाबले

फीफा विश्व कप-2018 में बड़ी टीमों के बीच खेले जाने वाले मुकाबले जितने खास होते हैं उतने ही खास होते हैं वो स्टेडियम, जिनमें ये मुकाबले खेले जाते हैं रूस में 14 जून से प्रारम्भ हो रहे फीफा विश्व कप के मैच 11 शहरों के 12 स्टेडियमों में खेले जाएंगे  ये 12 स्टेडियम अपने आप में ही खास हैं इन 12 स्टेडियमों में फीफा विश्व कप में 64 मैच खेले जाने हैं इसमें सबसे खास है लुज्निकी स्टेडियम, जिसमें फीफा विश्व कप का पहला  फाइनल मैच खेला जाएगा

Loading...

Image result for 11 शहरों के 12 स्टेडियमों में खेले जाएंगे 64 मुकाबले

1. लुज्निकी स्टेडियम : 

loading...

1956 में निर्मित हुआ यह स्टेडियम रूस की राजधानी मॉस्को में मोस्कवा नदी के किनारे स्थित हैपहले इसका नाम सेंट्रल लेनिन था 450 दिन में बनकर तैयार हुआ यह स्टेडियम 1980 मॉस्को ओलम्पिक खेलों का मुख्य केंद्र था 1990 में इसका पुन: निर्माण किया गया  इसके बाद इसका नाम लुज्निकी रखा गया

इसमें 1999 में यूईएफए फाइनल  2008 में चैम्पियंस लीग फाइनल मैच हुआ  ऐसे में यह स्टेडियम कई यादें संजोए बैठा है 2018 में मरम्मत के दौरान इसके स्टैंडों को दो टायरों में विभाजित किया गया इसमें ग्रुप मैचों के अलावा, नॉकआउट, सेमीफाइनल-2  फाइनल मैच खेला जाएगा

2. स्पार्ताक स्टेडियम : 

मॉस्को शहर में ही स्थित 2014 में निर्मित स्पार्ताक स्टेडियम में 43,298 प्रशंसक एक समय पर बैठ सकते हैं यह स्पार्ताक मॉस्को क्लब का घरेलू मैदान है चेनमेल से सजा हुआ यह स्टेडियम बाहर से स्पार्ताक क्लब के लाल  सफेद रंग से रंगा हुआ है हालांकि, इन रंगों को स्टेडियम में खेलने वाली टीमों के मुताबिक बदला भी जा सकता है इसमें ग्रुप मैचों के अलावा, नॉकआउट का मैच भी खेला जाएगा

3. निजनी नोवगोरोड स्टेडियम : 

नीले रंग में रंगा यह गोलाकार स्टेडियम निजनी नोवगोरोड शहर में स्थित है वोल्गा एरिया में प्रकृति से प्रेरित इस स्टेडियम एक समय पर 45,331 एक साथ लाइव मैच देख सकते हैं यह हवा पानी अस्तित्व को दर्शाता है 2015 में इसका निर्माण हुआ था इसमें ग्रुप स्तर के अलावा, अंतिम-16 दौर के साथ क्वार्टर फाइनल-1 का मैच भी खेला जाएगा

4. मोडरेविया एरीना : 

नारंगी, सफेद  लाल रंग से सजा सरांस्क में स्थित मोडरेविया एरीना स्टेडियम का मैदान 2010 में बेकार हो गया था फंड में कमी के कारण इसके निर्माण में देरी हुई  इसीलिए, यह 2017 के अंत तक पूरी तरह से बनकर तैयार नहीं हो पाया था इसमें अभी 45,000 प्रशंसकों के बैठने की क्षमता है, लेकिन फीफा विश्व कप के बाद इसके अपर टायर को हटा दिया जाएगा ऐसे में कुल 28,000 लोग ही इसमें बैठ पाएंगे इसमें केवल ग्रुप स्तर के मैच होंगे

5. कजान एरीना : 

कजान शहर में स्थित इस स्टेडियम का निर्माण वास्तुकारों ने किया है, जिन्होंने वेम्ब्ले  एमिरात स्टेडियमों का निर्माण किया जुलाई, 2013 में बनकर तैयार हुए इस स्टेडियम में 44,779 दर्शक बैठ सकते हैं यह लोकल लोगों की संस्कृति को दर्शाता है इसमें ग्रुप स्तर के साथ-साथ अंतिम-16 दौर  क्वार्टर फाइनल-2 के मैच खेले जाएंगे

6. समारान एरीना (कॉसमोस): 

समारा शहर के प्रसिद्ध एयरोस्पेस एरिया को प्रतिबिंबित करने के लिए इस स्टेडियम को अंतरिक्ष यान के रूपरंग में बनाया गया है विश्व कप के समापन के बाद इसका नाम बदलकर कॉसमोस एरीना रखा जाएगा ग्रुप मैचों के अलावा, इसमें नॉकआउट  चौथा क्वार्टर फाइनल मैच खेला जाएगा

7. एकातेरीना स्टेडियम : 

रूस के चौथे सबसे बड़े शहर एकातेरिनबर्ग में स्थित यह स्टेडियम को 1953 में बनाया गया थाइसके बाद, 2007  2011 में इसका पुन:निर्माण किया गया 35,000 लोग इसमें एक समय पर बैठकर लाइव मैच देख सकते हैं विश्व कप के बाद इसकी 12,000 अस्थायी सीटों को हटा दिया जाएगा, जिसके बाद इसमें केवल 23,000 लोग ही बैठ पाएंगे इसमें ग्रुप मैच ही खेले जाएंगे

8. सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम : 

साल 2007 में इसके मैदान को तोड़कर फिर से नया बनाया गया था, जो 2009 में तैयार होना थाहालांकि, कई बार देरी होने के बाद यह 2017 में बनकर तैयार हुआ 68,134 सीटों वाला नीले रंग में ढका यह स्टेडियम विश्व के तकनीकी रूप से उन्नत बेहतरीन स्टेडियमों में से एक है ग्रुप के अलावा, इसमें फीफा नॉकआउट  सेमीफाइनल-1 का मैच खेला जाएगा

9. कालिनिग्रेड स्टेडियम : 

बाल्टिक सागर के पास स्थित कालिनिग्रेड शहर का यह स्टेडियम बायर्न म्यूनिख क्लब के एलियांज एरीना के डिजाइन पर आधारित है 35,000 सीटों वाला यह स्टेडियम फीफा विश्व कप के ग्रुप स्तर के मैच आयोजित करेगा इस टूर्नामेंट के बाद स्टेडियम की 10,000 सीटों को हटा दिया जाएगा

10. वोल्गोग्राड स्टेडियम : 

वोल्गा नदी के पास वोल्गोग्राड शहर में स्थित 45,568 सीटों वाला यह स्टेडियम की छत का निर्माण साइकिल के पहियों के डिजाइन की तरह किया गया है यह छोठे शंकु के उल्टे आकार पर आधारित होकर बनाया गया है इसमें विश्व कप के ग्रुप स्तर के मैच होंगे  इसके बाद यह रोटोर वोल्गोग्राड का घरेलू मैदान बन जाएगा

11. रोस्तोव एरीना : 

रोस्तोव-ऑना-डॉन शहर में स्थित इस स्टेडियम का निर्माण 2013 में शुरु हुआ था, जिसमें देरी होती गई  2018 के आरंभ में बनकर तैयार हुआ इसमें 45,145 लोग बैठ सकते हैं ग्रुप स्तर के साथ इसमें नॉकआउट का एक मैच खेला जाएगा

12. फिश्ट स्टेडियम : 

सोचि शहर का यह स्टेडियम की छत दो भागों में बटी है, जो बर्फीले पहाड़ों के आकार को दर्शाती हैइसका नाम माउंट फिश्ट पहाड़ी के नाम पर रखा गया है इसमें फीफा विश्व कप के ग्रुप मैचों के अलावा, नॉकआउट  तीसरा क्वार्टर फाइनल मैच खेला जाएगा 47,700 लोग एक साथ मीटिंगलाइव मैच का आनंद ले सकते हैं

Loading...
loading...