Wednesday , September 26 2018
Loading...
Breaking News

रखरखाव के लिए रिटायर्ड रेलकर्मियों की सेवाएं लेगा रेलवे

रेलवे ने स्टीम लोकोमोटिव, विंटेज कोच जैसी अपनी ऐतिहासिक धरोहरों के संरक्षण  रखरखाव के लिए सेवानिवृत्त कर्मचारियों की सेएं लेने का फैसला लिया है. इन्हें अनुबंध के आधार पर अल्पकालिक अवधि के लिए रखा जाएगा  समुचित मानदेय प्रदान किया जाएगा.

Image result for रखरखाव के लिए रिटायर्ड रेलकर्मियों की सेवाएं लेगा रेलवे\\\\\\\\\\\\\\\\\\

इस विषय में रेलवे बोर्ड की ओर से सभी जोनल महाप्रबंधकों को आदेश जारी किए गए हैं. 65 सालतक की आयु के ऐसे रिटायर्ड रेलकर्मियों की तलाश करने को बोला गया है जिन्हें सलाहकार-सह-प्रशिक्षक के पद पर रखा जाएगा. अनुबंध के आधार पर होने वाली इन नियुक्तियों के लिए 1200 रुपये का दैनिक मानदेय निर्धारित किया गया है. बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि किसी भी हालात में कन्सल्टेंट-कम-कोच के रूप में नियुक्त सेवानिवृत्त रेलकर्मी का मानदेय उसकी पेंशन के साथ जोड़े जाने पर अंतिम वेतन से अधिक नहीं होना चाहिए. इन्हें अन्य कोई भत्ता नहीं मिलेगा.

Loading...

किसी जोन में धरोहरों के संरक्षण और रखरखाव के लिए कितने रिटायर्ड रेलकर्मी रखे जाएं, उनका चयन कैसे हो इसका निर्णय मुख्य विभागाध्यक्ष मुख्य वित्तीय सलाहकारों के परामर्श से करेंगे. हर मुख्य विभागाध्यक्ष को अपने विभाग में दस सेवानिवृत्त कर्मचारियों की नियुक्ति करने का अधिकार दिया गया है.

loading...

रेलवे की संरक्षण योग्य धरोहरों में कोयले की भाप से चलने वाले पुराने इंजन, अंग्रेजों  रजवाड़ों के जमाने विंटेज कोच, भाप से चलने वाली क्रेने, सेमाफोर सिगनल तथा स्टेशनों में प्रयुक्त होने वाले पुराने उपकरण आदि शामिल हैं. इनके बारे में सिर्फ पुराने सेवानिवृत्त रेलकर्मियों को ही पूरी जानकारी है. यही वजह है कि रेलवे को उनकी आवश्यकता महसूस हुई है.

अभी रेलवे में कई ऐसी वर्कशॉप एवं म्यूजियम हैं जहां इस तरह की धरोहरों को संजो कर रखा गया है  उनकी मरम्मत और रखरखाव के बंदोवस्त किए गए हैं. इनमें रेवाड़ी  अमृतसर की वर्कशॉप तथा नयी दिल्ली का नेशनल रेल म्यूजियम प्रमुख हैं. इनके अतिरिक्त भी विभिन्न जोनों में अनेक कार्यशालाएं और म्यूजियम हैं, जहां इस प्रकार की अनोखी धरोहरें मौजूद हैं. बालीवुड फिल्मों की शूटिंग में अक्सर इन धरोहरों का उपयोग पुराने दौर को दर्शाने के लिए किया जाता है, जिनसे रेलवे को आमदनी भी होती है. उदाहरण के लिए सनी द्योल की पिक्चर ‘गदर : एक प्रेमकथा’ में बंटवारे के वक्त ट्रेन यात्रा के दृश्य के फिल्मांकन के लिए ‘अकबर’ इंजन का इस्तेमाल किया गया था.

Loading...
loading...