Tuesday , December 11 2018
Loading...

हिंदुस्तान में शारीरिक श्रम से दूर भागते हैं 54 फीसदी लोग

अब हम आपको पीएम नरेन्द्र मोदी के Fitness Challenge का एक वीडियो दिखाएंगे आज पीएमने अपने प्रातः काल के व्यायाम का वीडियो Twitter पर Post किया है सबसे पहले आप ये वीडियो देखिए, फिर हम इसके बारे में आपको बताएंगे पीएम नरेन्द्र मोदी ने इस Fitness Challenge के लिए कर्नाटक के CM HD कुमारस्वामी  टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा को Nominate किया है कर्नाटक के CM HD कुमारस्वामी ने पीएम का Challenge स्वीकार किया लेकिन साथ ही पीएम को एक दिलचस्प जवाब भी दिया

Image result for शारीरिक श्रम

Twitter पर HD कुमारस्वामी ने पीएम नरेन्द्र मोदी को उनकी स्वास्थ्य के लिए फिक्रमंद होने के लिए शुक्रिया कहा  ये भी बोला वो अपने राज्य के विकास  फिटनेस के लिए ज्यादा फिक्रमंद हैं इसके लिए उन्हें नरेन्द्र मोदी की सहायता की ज़रूरत है नरेंद्र मोदी की ही तरह संसार के कई दूसरे नेता इसी तरह के फिटनेस Videos शेयर करते रहते हैं नरेंद्र मोदी के वीडियो ने हमें Russia के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन के Videos की याद दिला दी पुतिन की आयु 65 साल है जबकि नरेंद्र मोदी की आयु 67 साल है

Loading...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के फिटनेस वीडियो की चर्चा कांग्रेस पार्टी की इफ्तार पार्टी में भी सुनाई दीआज दिल्ली के एक फाइव स्टार Hotel में कांग्रेस पार्टी ने इफ्तार पार्टी का आयोजन किया था इस इफ्तार पार्टी में कांग्रेस पार्टी के अतिरिक्त दूसरी विपक्षी पार्टियों के नेता भी मौजूद थे इसी इफ्तार पार्टी में राहुल गांधी  दूसरे नेताओं की वार्ता का एक मोबाइल वीडियो सामने आया हैजिसमें राहुल गांधी के बगल में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी  प्रतिभा पाटिल बैठे हैं  उनके सामने बसपा के नेता सतीश चंद्र मिश्रा  सीपीएम के महासचिव सीताराम येचुरी बैठे हैं इन नेताओं के बीच पीएम नरेन्द्र मोदी के फिटनेस चैलेंज वाले वीडियो की चर्चा हो रही है इस चर्चा में राहुल गांधी हंस रहे हैं  इसे bizarre यानी अजीब बता रहे हैं आप भी ये वीडियो देखिए

loading...

ये तो इस पूरी ख़बर का राजनीतिक पहलू है लेकिन इस ख़बर का एक पहलू  है जिसके बारे में हम आपको गहराई से बताएंगे आज अपने इस वीडियो को Twitter पर Post करते हुए पीएम ने पंचतत्वों के बारे में लिखा  उन्होंने लिखा कि योग के अतिरिक्त मैं एक ऐसे ट्रैक पर चलता हूं, जो कुदरत के पांच तत्वों से प्रेरित है ये तत्व हैं पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु  आकाश  ये खुद को तरोताज़ा करने वाला अनुभव है

आपने इन पांच तत्वों के नाम ज़रूर सुने होंगे, लेकिन शायद आपमें से बहुत से लोगों को ये पता नहीं होगा कि हमारे बॉडी को सही तरीके से चलाने के लिए इन पांच तत्वों की ज़रूरत होती है यानी पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि  आकाश आपस में एक दूसरे की मदद से बॉडी को संचालित करते हैं इन तत्वों के संतुलन को ही शारीरिक संगठन कहते हैं इसका मतलब ये है कि जब तक ये तत्व संतुलित होते हैं, तभी तक कोई भी आदमी अच्छा रह सकता है जब इन पांच तत्वों के किसी भी तत्व में कोई कमी आती है या किसी तरह का असंतुलन हो जाता है तो बॉडी रोगों की गिरफ्त में आ जाता है अब आपको मनुष्य के बॉडी में इन तत्वों के फायदे  कार्य बताते हैं

सबसे पहले बात पृथ्वी तत्व की अगर बॉडी के अंदर पृथ्वी तत्व में कोई कमी आती है तो पूरे बॉडी के जैविक बल भी बेकार हो जाते हैं पृथ्वी तत्व में बॉडी का पूरा ढांचा, हड्डियां  मांस शामिल हैं अब जल की बात करते हैं हमारे बॉडी में लगभग 70% जल है इसकी प्रकृति ठंडी होती है इसलिए बॉडीके तापमान को बनाए रखने  खून की क्रियाओं में पानी का विशेष सहयोग होता है इसी तरह वायु तत्व बॉडी के अंदर फेफड़ों, दिल  सांस लेने की ग्रंथियों में मौजूद है वायु, बॉडी के अंदर बहुत से हिस्सों का संचालन करती है हमारे बॉडी के अंदर मौजूद आकाश तत्व बॉडी का अच्छी तरह से पोषण करता है  हमारे बॉडी में मौजूद ज़हरीले तत्वों को बाहर निकालकर आदमी को निरोगी बनाता है

और अग्नि तत्व हमारे बॉडी का तापमान बनाए रखता है  सारे अंगों को जागरूक रखता है पंच तत्व योग की उत्पत्ति हिंदुस्तान में हुई  इसके बहुत फायदा हैं, लेकिन दुख की बात ये है कि लोगों में इस योग को करने की इच्छाशक्ति नही है हिंदुस्तान के लोग आलस के सबसे ऊंचे शिखर पर हैंहिंदुस्तान में आपको आलस की आलोचना करने वाले बहुत से लोग मिल जाएंगे लेकिन आलस को हराने वाले ऊर्जावान लोग आपको बहुत कम मिलेंगे 

Indian Council of Medical Research की एक रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्र के करीब 54 फीसदीलोग शारीरिक श्रम से दूर भागते हैं  इनमें पुरुषों की संख्या करीब 42 फीसदी  स्त्रियों की संख्या 58 फीसदी है  यानी पुरूषों के मुकाबले महिलाएं ज़्यादा आराम पसंद हैं इस सर्वे में ये पाया गया कि गांव के लोगों की तुलना में शहरों के लोग ज़्यादा आलसी हैं  गांव में रहने वाले 50 फीसदी लोग शारीरिक मेहनत से बचना चाहते हैं जबकि शहरों में 65 फीसदी लोग आलस की अंगड़ाई ले रहे हैं 

भारत के लोग ना तो Walk करना चाहते हैं   ना ही उनमे किसी भी तरह का Workout करने की ख़्वाहिश होती है इसीलिए हिंदुस्तान आरामपसंद  Unfit लोगों का राष्ट्र है डॉक्टरों के मुताबिक एक स्वस्थ ज़िंदगी के लिए प्रतिदिन कम से कम 7 हज़ार कदम पैदल चलना चाहिए, ऐसा करके आप मोटापे, डायबिटीज़  दिल की बीमारियों से बच सकते हैं लेकिन हिंदुस्तान में ऐसा हर रोज़ करने वाले लोग बहुत कम हैं  हिंदुस्तान में लोग औसतन एक दिन में 4 हज़ार 297 कदम चलते हैं 

सबसे हैरानी की बात ये है कि हिंदुस्तान के लोगों का ये आलस जानलेवा स्थिति तक पहुंच चुका हैलेकिन इसके बावजूद वो अपने आलस को त्यागना नहीं चाहते एक स्टडी के मुताबिक Workout शारीरिक श्रम ना करने की वजह से हिंदुस्तान में डायबिटीज़  हाइपरटेंशन से बीमार लोगों की संख्या बहुत तेज़ी से बढ़ी है    हिंदुस्तानियों में आलस के वायरस बहुत पुराने हैंलोगों के आलसी होने का उल्लेख वेदों में भी मिलता हैवेदों में लिखा गया है कि आलसी आदमी पर कोई दवा प्रभाव नहीं करती यानी अगर बीमारियों को दूर भगाना है  फिट रहना है तो भी सबसे पहले आलस को दूर करना होगा

भारत में  करीब 13 करोड़ लोग मोटापे के शिकार हैं  इनमें स्त्रियों का संख्या पुरुषों से ज़्यादा है इसके अलावा  राष्ट्र में 3 करोड़ से ज़्यादा लोग दिल की बीमारियों से पीड़ित हैं  करीब 7 करोड़ लोग डायबिटीज़ के मरीज़ हैं यानी हिंदुस्तान युवाओं का राष्ट्र होने के साथ साथ मरीज़ों का राष्ट्र भी बन गया है अब आप खुद सोचिए कि जिस राष्ट्र के लोग इतने Unfit होंगे  वो राष्ट्र आगे कैसे बढ़ेगा

Loading...
loading...