Monday , June 25 2018
Loading...

इस तरह प्रभावित होता है मनुष्य का शरीर

यह बड़ी ही नॉर्मल बात है  सभी इसका एक्सपीरियंस कर चुके हैं कि मनुष्यों के प्राइवेट पार्ट्स का रंग ज़रा गहरा होता है बॉडी के बाकी अंगों की तुलना में मनुष्यों के गुप्तांगों का रंग थोड़ा गहरा होता है यानी काला होता है इनमें केवल प्राइवेट पार्ट्स ही शामिल नहीं है प्राइवेट पार्ट्स के आसपास के हिस्से जैसे इनर थाई  बट्स का रंग भी गहरे शेड का होता है प्राइवेट पार्ट्स मनुष्य के बेहद ही व्यक्तिगत अंग होते हैं, जिसे चाहे दिन हो या रात, अंडरआर्म हो, योनि या फिर आंतरिक जांघ इसे ढँक कर ही रखना होता है

Image result for इस तरह प्रभावित होता है मनुष्य का शरीर

देखा जाता है कि व्यस्तता के कारण अंडरगारमेन्ट्स को बहुत देर तक सूखा रख पाना बहुत मुश्किल उसी प्रकार से स्त्रियों के यूरीन करने के बाद उन्हें उनकी पैंटी को सूखा रख पाना एक तरह से असंभव ही रहता है डॉक्टर्स बताते हैं कि यदि महिलाएं दिन में 2-3 बार यदि पैंटी चेंज ना करें तो प्राइवेट की गन्दगी, नमी ओर लगातार रगड़ की वजह से प्राइवेट पार्ट्स काले हो जाते हैं

यह भी पढ़ें:   अपने लिंग के सिकुड़ें से कई तरह की बना लेते भ्रांतियां
Loading...

प्राइवेट पार्ट्स तो अच्छा है लेकिन रगड़ ओर नमी यदि निरंतर रहे तो इससे आंतरिक जाँघे भी काली हो जाती हैं युवावस्था में आते ही एक समय के बाद प्राइवेट पार्ट्स पर बाल आना प्रारम्भ हो जाते हैंबॉडी के बाकी हिस्सों की तुलना में यह बाल बहुत ज्यादा मज़बूत  काले होते हैं इनके इस तरह जटिल  काले होने के कारण भी गुप्तांग काले पढ़ने लगते हैं

Loading...