Sunday , June 24 2018
Loading...
Breaking News

WhatsApp से चुटकियों में पता चलेगा दवा वास्तविक है या नकली

बाजार में नकली दवाओं के आने से हमेशा यह खतरा बना रहता है जो दवा आपने ली है वो वास्तविक है या नकली लेकिन अब इसको लेकर आपको ज्यादा सोचने की आवश्यकता नहीं हैदरअसल दवा बनाने वाली कंपनियां अब अपनी सबसे ज्यादा बिकने वाली दवा के साथ ही अन्य प्रोडक्ट पर यूनीक कोड प्रिंट करेंगे इस कोड के जरिए दवा के वास्तविक या नकली होने का सरलतासे पता किया जा सकेगा ऐसा दवाओं की नकल से छुटकारा पाने के लिए किया जाएगा

Image result for WhatsApp

300 दवा ब्रांड की नकल से छुटकारा मिलेगा
इकोनॉमिक टाइम्स में प्रकाशित समाचार के अनुसार एक वरिष्ठ सरकारी ऑफिसर ने बताया कि दवा कंपनियों की तरफ से ऐसा किया जाने पर शीर्ष 300 दवा ब्रांड की नकल से छुटकारा मिलेगाऑफिसर ने बताया कि ड्रग्स टेक्निकल अडवाइजरी बोर्ड (DTAB) ने 16 मई को हुई मीटिंग में ‘ट्रेस एंड ट्रैक’ सिस्टम लागू करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है इसके बाद शीर्ष 300 दवा ब्रांड के लेबल पर 14 अंकों का नंबर प्रिंट होगा

स्ट्रिप पर यूनीक नंबर दिया होगा
इसके बाद मार्केट में बिकने वाले सिरप  दवा की स्ट्रिप पर एक यूनीक नंबर दिया होगा इसके साथ ही एक मोबाइल नंबर पर दिया जाएगा यह नंबर दवा की मार्केटिंग करने वाली कंपनी की तरफ से जारी किया जाएगा 14 अंकों वाले इस यूनीक नंबर को दिए गए मोबाइल नंबर पर मैसेज करने पर दवा बनाने वाली कंपनी का नाम  पता, बैच नंबर, मैन्युफैक्चरिंग  एक्सपायरी डेट जैसी सभी जानकारी मिल जाएंगी इससे आपको दवा की सही जानकारी मिलेगी

नकली दवा का पता लगाने में सरलता होगी
इस पहल से मार्केट में बिक रही नकली दवाईयों का पता लगाने में भी मदद मिलेगी इस बारे में कई कंपनियों के साथ ही प्रमुख एसोसिएशन की गवर्नमेंट से बात चल रही थी इस पर अब सहमति बन गई है ट्रेस एंड ट्रैक सिस्टम के लिए जिन 300 दवाओं का चुनाव किया जाना है उनकी लिस्ट बनाने का कार्य जारी है दवा बनाने वाली कंपनियों को भी इस बारे में जानकारी का इंतजार है कि यह सिस्टम किस तरह कार्य करेगा

Loading...