Monday , August 20 2018
Loading...
Breaking News

तनावग्रस्त लोग अपने लक्ष्यों से रहते हैं दूर

वैसे लोग जो मानसिक कठिनाई से गुजर रहे हैं या जिनमें वह अपने व्यक्तिगत लक्ष्यों को पूरा करने के मामले में बेहद बंटे हुए होते हैं वह यह नहीं समझ पाते हैं उन्हें किस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ एक्स्टर  एडिथ कोवान यूनिवर्सिटी ने 200 से ज्यादा युवओं को लेकर एक सर्वेक्षण किया इसमें इसका अध्ययन किया गया कि तनाव से गुजर रहे लोग अपने एक लक्ष्य को पूरा करने की दिशा में आगे बढ़ने के दौरान दूसरे लक्ष्य का पीछा करने में मानसिक द्वंद्व का सामना करते हैं

Loading...

Image result for तनावग्रस्त लोग अपने लक्ष्यों से रहते हैं दूर

इसके अतिरिक्त एक लक्ष्य का पीछा करने के दौरान अलग – अलग तरह के विचारों के आने के बारे में अध्ययन किया गया अध्ययन के परिणाम में यह निकलकर सामने आया कि लक्ष्यों को हासिल करने का द्वंद्व सीधे तौर पर तनाव  चिंता से जुड़ा हुआ था

loading...

मोबाइल का अधिक प्रयोग बढ़ा सकता है तनाव  घबराहटः शोध
आज के समय लगभग हर किसी के पास स्मार्ट फोन देखा जा सकता है स्मार्ट फोन में इतने विशेषता आ गए हैं कि लोगों का कार्य बहुत ज्यादा हद तक सरल हो गया है एक छोटे से मोबाइल में लगभग हर तरह की सुविधाएं उपलब्ध हैं आप घर बैठे ही कई कार्य बड़ी सरलता से कर सकते हैं लेकिन जहां एक ओर मोबाइल आपके कार्य को सरल बना रहा है तो वहीं आपको तनाव की ओर धकेल रही है

जी हां, अगर आपके मोबाइल या सोशल मीडिया एकांउट पर किसी तरह का मैसेज या नोटिफिकेशन न आए या आपके फोन की बैटरी समाप्त हो जाए, तो आपको लगने लगता है कि आपके आस-पास अब संसार थम गई है आप जब तक अपने फोन को चार्जिंग पर लगाकर उसे चार्ज नहीं कर लेते आप उसी के बारे में सोचते रहते हैं कई बार फोन की टेंशन के चलते लोग अकेला महसूस करने लगते हैं डिप्रेशन का शिकार होने लगते हैं

सैन फ्रांसिस्को स्टेट यूनिवर्सिटी में हुए एक अध्ययन में, शोधकर्ता एरिक पेपर  रिचर्ड हार्वे ने बताया है कि Smart Phone का अधिक यूज इसके दुरुपयोग की तरह है पेपर ने इसे समझाते हुए बोला कि “स्मार्टफोन का अधिक उपयोग मस्तिष्क से न्यूरोलॉजिकल कनेक्शन बनाने लगता है” जिससे ये महत्वपूर्ण न होते हुए भी महत्वपूर्ण लगने लगता है

ये बिल्कुल वैसा ही है जैसे लोग दर्द से मुक्ति पाने के लिए ऑक्सीनटिन लेने लगते हैं पेपर ने बोलाकि सोशल मीडिया की लत समाज पर बुरा प्रभाव डालती है Smart Phone के अधिक प्रयोग से कहीं न कहीं हमारा दिमाग इससे कनेक्ट होने लगता है  समाज से अलग करने लगता है

सैन फ्रेंसिस्को के 135 स्टूडेंट पर किए इस अध्ययन में पेपर  हार्वे ने पाया कि वे स्टूडेंट जो अपने फोन का आवश्यकता से ज्यादा प्रयोग करते हैं वे अपने-आप को बाकि लोगों से अलग, अकेला, तनावपूर्ण  चिंतित महसूस करते हैं पीमेर ने बोला कि यह गतिविधि बॉडी  मन को थोड़े समय के लिए आराम करने की इजाजत देती है “सेमी-टास्किंग” के परिणामस्वरूप लोगों ने एक ही समय में दो या दो से अधिक काम किए, लेकिन अगर उनका ध्यान केंद्रित होता तो वे एक समय में एक ही काम करते

Loading...
loading...