Monday , September 24 2018
Loading...
Breaking News

मोकामा व बरौनी के बीच डबल रेल लाइन वाला नया पुल तीन सालों में हो जाएगा तैयार

मोकामा  बरौनी के बीच डबल रेल लाइन वाला नया पुल तीन सालों में तैयार हो जाएगा.इसके निर्माण का काम इरकॉन को दिया गया है. इसमें 1491 करोड़ रुपये खर्च होंगे. 2015-16 वित्तीय साल में इस ब्रिज के निर्माण के लिए राशि स्वीकृत की गई थी. यह जानकारी रेल मंत्री पीयूष गोयल के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग कर रहे रेल राज्यमंत्री मनोज कुमार सिन्हा ने दी.

Image result for मोकामा व बरौनी के बीच डबल रेल लाइन वाला नया पुल तीन सालों में हो जाएगा तैयार

केंद्रीय मंत्री ने पत्रकारों को बताया कि नए पुल का निर्माण राजेंद्र सेतु के समानांतर कराया जा रहा है.रेल पुल सहित 14 किमी रेल लाइन का निर्माण होगा. इसके बनने से दक्षिण  उत्तर बिहार के बीच रेल यातायात  सुगम हो जाएगा. अभी मोकामा-बरौनी के लिए सिंगल रेल लाइन ही है. उन्होंने बोलाकि रेल पुल के शिलान्यास के बाद इसमें कुछ शिकायतें मिलीं थीं, इसकी जांच के कारण निर्माण काम प्रारम्भ होने में देरी हुई.

Loading...

रेल राज्यमंत्री ने बोला कि रेल मंत्रालय का बिहार पर विशेष ध्यान है. मोकामा-बरौनी रेल पुल ऐतिहासिक होगा. पैसेंजर ट्रेनों के विलंब से जुड़े मुद्दे में भी सुधार हो रहा है.

loading...
251 करोड़ से पटना-सोनपुर के बीच दोहरीकरण

पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क ऑफिसर राजेश कुमार ने बताया कि पटना-सोनपुर के बीच दोहरीकरण का काम पुल के दोनों छोर से प्रारम्भ कर दिया गया है. पाटलिपुत्र स्टेशन से दीघा ब्रिज होते हुए पहलेजा स्टेशन तक दिसंबर 2019 तक दोहरीकरण पूरा हो जाएगा. इसमें 251 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है.

24 किमी लंबा होगा नया गंगा पुल

उन्होंने बताया कि विक्रमशिला-कटरिया गंगा ब्रिज (पीरपैती-नवगछिया) का डीपीआर तैयार हो रहा है. इस पर 4379 करोड़ रुपये खर्च होंगे. 2016-17 में यह ब्रिज स्वीकृत हुआ है. रेल पुल 24 किमी लंबा होगा. वाई आकार में ब्रिज के दोनों तरफ से रेल लाइन मिलेगी. उत्तर में कटरिया  नवगछिया तथा दक्षिण में विक्रमशिला  शिवनारायणपुर स्टेशन की तरफ लाइन जुड़ेगी.

सीपीआरओ ने बताया कि मुंगेर रेल ब्रिज पर अभी यातायात का वजन नहीं है. इस पर धीरे-धीरे ट्रैफिक बढ़ाया जाएगा. सहरसा-भागलपुर स्पेशल ट्रेन का परिचालन कराया जा रहा है. पहले से चल रही ट्रेनों के रूट में परिवर्तन करना बहुत ज्यादा मुश्किल है. कम स्टॉपेज वाली ट्रेनों को इस ब्रिज से पार कराया जा रहा है.

Loading...
loading...