Tuesday , August 21 2018
Loading...

कर्नाटक में शपथ, दिल्‍ली में ‘नाटक’, जाने क्या है पूरा माजरा

सुप्रीम कोर्ट में ऐतिहासिक निर्णय के बाद कांग्रेस और जेडीएस की अर्जी खारिज कर दी गई सुप्रीम न्यायालय ने बोला कि येदियुरप्पा का शपथ ग्रहण नहीं रोका जाएगा, गुरुवार (17 मई) को येदियुरप्पा का शपथ ग्रहण समारोह होगा  वो कर्नाटक के अगले मुख्यमंत्री बनेंगे आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि ये पूरा मामला बुधवार रात से प्रारम्भ हुआ, कर्नाटक के राज्यपाल वजूभाई वाला ने 104 सीटों वाले सबसे बड़े दल भाजपा को गवर्नमेंट बनाने का न्योता दिया

Loading...

Image result for कर्नाटक में शपथ, दिल्‍ली में 'नाटक'
दरअसल कर्नाटक में किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है  बुधवार रात 9 बजे गवर्नरवजूभाई ने बी एस येदियुरप्पा को गुरुवार (17 मई) की प्रातः काल 9 बजे शपथग्रहण का न्योता दे दिया येदियुरप्पा के शपथग्रहण की समाचार के बाद से ही कांग्रेस पार्टी में हड़कंप मच गई  कांग्रेस पार्टी रात में ही सुप्रीम न्यायालय पहुंची  मामले की जल्द सुनवाई करने की मांग की   रजिस्ट्रार सुप्रीम न्यायालय पहुंचे  उन्‍होंने कांग्रेस पार्टी  जेडीएस की याचिका की जांच की  फिर चीफ़ जस्टिस ऑफ इंडिया के पास पहुंचे रात करीब 1 बजे तय हुआ कि रात में ही सुनवाई होगी

loading...

सिलसिले वार जानिए कब क्या हुआ

रात 11 बजे कांग्रेस पार्टी नेता पहुंचें सुप्रीम कोर्ट
गवर्नर के निर्णय के विरूद्ध रात 11 बजे कांग्रेस पार्टी सुप्रीम न्यायालय पहुंच गई  अर्जी दाखिल कीकांग्रेस पार्टी नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने रात में ही सुप्रीम न्यायालय के दरवाजे खोलने की अपील की

बुधवार देर रात 12:00 बजे रजिस्ट्रार पहुंचा
बुधवार (16 मई) की आधी रात को कांग्रेस पार्टी  जेडीएस की अर्जी लेकर रजिस्ट्रार CJI दीपक मिश्रा के घर पहुंचे इस बीच अभिषेक मनु सिंघवी भी CJI के घर के बाहर पहुंच गए CJI ने तीन जज की बेंच को सुनवाई का जिम्मा दिया  न्यायालय रूम नंबर 6 में सुनवाई का निर्णय किया गया

रात 2 बजकर 11 मिनट पर प्रारम्भ हुई बहस 
इस सारे ड्रामे के बाद बुधवार (16 मई) देर रात 2 बजकर 11 मिनट पर बहस प्रारम्भ हुई कांग्रेस पार्टी की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी  भाजपा की तरह से मुकुल रोहतगी ने दलील देनी प्रारम्भकी

कांग्रेस ने खड़े किए सवाल
न्यायालय ने कर्नाटक में येदियुरप्पा की शपथ ग्रहण समारोह को रोकने के लिए दी गई कांग्रेस पार्टीकी तैयारियों पर भी बड़ा सवाल खड़ा किया न्यायालय ने अभिषेक मनु सिंधवी से कांग्रेस पार्टी जेडीएस के विधायकों के समर्थन वाली चिट्ठी दिखाने को कहा, लेकिन अभिषेक के पास वो चिट्ठी नहीं थी, जिसपर न्यायालय ने कहा, कि बिना चिट्ठी कांग्रेस-जेडीएस की दलील कैसे सुनी जा सकती हैन्यायालय ने तय वक्त से ज्यादा बहस करने पर अभिषेक मनु सिंघवी को बहस करने से भी रोक दिया

रात 3.23 बजे तक कांग्रेस पार्टी ने की बहस
अभिषेक मनु सिंघवी ने न्यायालय में 1 घंटे से ज्यादा बहस की सुप्रीम न्यायालय ने बोला वो तय समय से ज्यादा बहस कर चुके हैं  उन्हें दलील समाप्त करनी चाहिए सिंघवी ने दावा किया कि उनके पास पूरा समर्थन है  गवर्नर ने असैंवाधिनक तरीके से निर्णय दिया है

रात 3:59 बजे वरिष्ठ एडवोकेट बोले
अभिषेक मनु सिंघवी की दलील समाप्त होने के बाद देर रात 3:59 भाजपा के तरफ से मुकुल रोहतगी ने बोला कि शपथ दिलाना गर्वनर की ड्यूटी है प्रातः काल 04:01 मिनट पर मुकुल रहतोगी ने मांग की कि कांग्रेस पार्टी की याचिका न्यायालय में खारिज हो

सुबह 4:02 दोनों पक्षों की दलील हुई खत्म
सुप्रीम न्यायालय में करीब 1 घंटे 50 मिनट बाद दोनों पक्षों की तरफ से दलील समाप्त हुई पहले कांग्रेस पार्टी की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी ने दलील दी  इसके बाद भाजपा की तरफ से मुकुल रोहतगी  गवर्नमेंट की तरफ वेणुगोपाल ने दलील समाप्त दी

सुबह 04:20 पर न्यायालय ने दिया फैसला
सुप्रीम न्यायालय ने बोला कि येदियुरप्पा की शपथ को नहीं रोका जाएगा दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद सुप्रीम न्यायालय की तीन जज की बेंच ने निर्णय दिया

कांग्रेस ने निर्णय को बताया ‘संविधान का अपमान’
कर्नाटक मामले की सुनवाई के लिए 3 जजों की बेंच बनाई गई, जिसमें जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस एसए बोबड़े  जस्टिस अशोक भूषण शामिल थे आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि गवर्नर के निर्णय के बाद कांग्रेस पार्टी ने निर्णय को संविधान का अपमान बताया

Loading...
loading...