Saturday , May 26 2018
Loading...

इस पूर्व क्रिकेटर पर आज निर्णय सुना सकता है सुप्रीम कोर्ट

दिसंबर 1988 में सड़क पर हुए टकराव के दौरान गुरनाम सिंह की मौत के मामले में सुप्रीम न्यायालय मंगलवार को अपना निर्णय सुना सकता है. पंजाब और हरियाणा हाई न्यायालय ने इस मामले में क्रिकेट से पॉलिटिक्स में आए नवजोत सिंह सिद्धू को तीन वर्ष की सजा सुना रखी है.सिद्धू ने इस सजा के विरूद्ध अपील की है.

Image result for इस पूर्व क्रिकेटर पर आज निर्णय सुना सकता है सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम न्यायालय में जस्टिस जे चेलमेश्वर  जस्टिस संजय किशन कौल की पीठ ने 18 अप्रैल को सुनवाई के बाद मामले में अपना निर्णय सुरक्षित कर लिया था. सिद्धू ने दावा किया है कि गुरनाम सिंह की मौत का कारण विरोधाभासी है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी कारण स्पष्ट नहीं कर पाई है. सिद्धू इस समय पंजाब गवर्नमेंट में पर्यटन मंत्री हैं. मामले में दोषी ठहराए गए अन्य शख्स रुपिंदर सिंह संधू ने भी अपील कर रखी है. संधू को भी हाई न्यायालय ने तीन वर्ष की सजा सुनाई है.

IPLकी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अभियोजन पक्ष के अनुसार 27 दिसंबर, 1988 को सिद्धू  संधू ने पटियाला की एक सड़क पर बीच में ही अपनी जिप्सी खड़ी कर दी थी. इसी दौरान गुरनाम सिंह अपनी मारुति कार से वहां पहुंचे. सड़क के बीच में जिप्सी खड़ी करने पर उनकी सिद्धू से तीखी बहस हो गई. पुलिस का दावा है कि इसी दौरान सिद्धू ने गुरनाम की पिटाई कर दी, जिससे वह बेहोश होकर गिर पड़े. अस्पताल ले जाने पर उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. शीर्ष न्यायालय में वरिष्ठ अधिवक्ता आरएस चीमा ने सिद्धू का बचाव करते हुए मौत का कारण स्पष्ट न मानते हुए उन्हें राहत देने की अपील की. लेकिन 12 अप्रैल को अभियोजन पक्ष  पंजाब गवर्नमेंट ने हाई न्यायालय के सजा के निर्णय को सही ठहराया  तीन वर्षसजा को बरकरार रखने की अपील की. हाई न्यायालय ने सिद्धू गैर इरादतन मर्डर का दोषी पाया है.सिद्धू की अपील पर 2007 में सुप्रीम न्यायालय ने इस सजा को स्थगित कर दिया था.

Loading...