Sunday , September 23 2018
Loading...
Breaking News

पीएम मोदी व शी जिनपिंग के बीच 7 मुलाकातें

इंडियन पीएम नरेंद्र मोदी  चाइना के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने शुक्रवार (27 अप्रैल) शनिवार (28 अप्रैल) को यहां अपनी अनौपचारिक मुलाकात के दौरान करीब नौ घंटे साथ वक्त बिताया हिंदुस्तान में चाइना के राजदूत लुओ झाओहुई ने यह जानकारी दी मोदी के शनिवार को यहां से हिंदुस्तान रवाना होने के बाद लुओ ने ट्वीट कर कहा, “दो दिनों में सात मुलाकातें, राष्ट्रपति शी जिनपिंग  पीएम नरेंद्र मोदी ने नौ घंटे का वक्त साथ बिताया दोनों नेताओं ने कई मुद्दों पर आम सहमति के साथ लंबी वार्ता की ”

Image result for पीएम मोदी व शी जिनपिंग के बीच 7 मुलाकातें

शुक्रवार (27 अप्रैल) तड़के यहां पहुंचने के बाद मोदी  शी ने सबसे पहले हुबेई प्रांतीय संग्रहालय में मुलाकात की, जहां दोनों नेताओं ने एक दूसरे के साथ बातचीत की इसके बाद शी ने मोदी के साथ एक प्रदर्शनी का दौरा किया इसके बाद दोनों नेताओं ने प्रतिनिधिमंडल स्तरीय बातचीत की इंडियनविदेश सचिव विजय गोखले ने शनिवार (28 अप्रैल) को यहां मीडिया को संबोधित करते हुए बोला कि दोनों नेताओं की वार्ता निर्धारित समय से ज्यादा देर तक चली

Loading...

चीन के राष्ट्रपति ने शुक्रवार (27 अप्रैल) शाम को इंडियन पीएम के सम्मान में रात्रिभोज का आयोजन किया मोदी  शी ने शनिवार (28 अप्रैल) प्रातः काल चाय पर फिर से चर्चा की  यहां ईस्ट लेक के किनारे सैर की शी ने हिंदुस्तान के लिए रवाना होने से पहले मोदी के लिए भोज आयोजित किया

loading...

‘सीमा पर भरोसा कायम करने के लिए अपनी-अपनी सेना को आदेश देंगे पीएम मोदी  शी जिनपिंग’
पीएम नरेंद्र मोदी  चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपनी-अपनी सेनाओं को सामरिक दिशानिर्देश जारी करने का निर्णय किया है ताकि संचार मजबूत हो सके  विश्वास एवं समझ कायम की जा सकेयह जानकारी शनिवार (28 अप्रैल) को एक शीर्ष इंडियन राजनयिक ने दी मध्य चाइना के वुहान शहर में दोनों नेताओं के बीच दो दिन की अभूतपूर्व अनौपचारिक शिखर बातचीत के समापन पर पत्रकारों से वार्ता में विदेश सचिव विजय गोखले ने बोला कि दोनों नेताओं ने हिंदुस्तान – चाइना सीमा एरिया के सभी इलाकों में अमन – चैन कायम रखने को अहम करार दिया

सेनाओं को जारी करेंगे सामरिक दिशानिर्देश
उन्होंने कहा, ‘‘इस मामले में दोनों नेताओं ने निर्णय किया कि वे अपनी-अपनी सेनाओं को सामरिक दिशानिर्देश जारी करेंगे, ताकि संचार मजबूत किया जा सके, विश्वास एवं समझ कायम की जा सके, उन विश्वास बहाली तरीकों को लागू किया जा सके जिन पर दोनों पक्षों में पहले ही सहमति बन चुकी है इनके अलावा, मौजूदा संस्थागत तंत्र को भी मजबूत किया जाएगा ताकि सीमाई इलाकों में दशासंभाले जा सकें ’’

Loading...
loading...