Wednesday , November 21 2018
Loading...
Breaking News

पीएम मोदी ने चाइना को दिया यह तोहफा

पीएम नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को  चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को एक प्रसिद्ध चीनी चित्रकार की दो कलाकृतियों की प्रतिलिपियां भेंट कीं जिन्हें उसने पश्चिम बंगाल में विश्वभारती विश्वविद्यालय में 1939-40 में ठहरने दौरान बनाई थी मोदी ने यहां अनौपचारिक शिखर वार्ता के दौरान शी को शू बीहोंग की कलाकृतियों की प्रतिलिपियां दीं

Image result for पीएम मोदी ने चाइना को दिया यह तोहफा

शू घोड़ों  पक्षियों की अपनी स्याही पेंटिग के लिए जाने जाते थे वह उन कलात्मक अभिव्यक्तियों की जरुरतों को सामने रखने वाले प्रथम चीनी कलाकारों में एक थे जिनमें 20 वीं सदी के प्रारंभ में आधुनिक चाइना परिलक्षित हुआ पेंटिंग में एक घोड़ा  घास पर गौरैया नजर आ रहे हैं

Loading...

शिखर बातचीत के लिए विशेष रुप से किया गया था ऑर्डर
अधिकारियों ने बताया कि शू ने विश्वभारती में ठहरने के दौरान ये कलाकृतियां बनायी थीं इंडियनसांस्कृतिक संबंध परिषद (आईसीसीआर) ने इस शिखर बातचीत के लिए उनका विशेष रूप से आर्डर किया था

loading...

सूत्रों ने बताया कि घोड़ा, गौरैया  घास  शीर्षक वाली ये पेंटिंग विश्वभारती के संग्रहण में हैआईसीसीआर ने वुहार में इन दोनों नेताओं की अनौपचारिक शिखर भेंटवार्ता के मौके लिए उनकी एकल प्रतिलिपियों का विशेष रुप से आर्डर किया था

सूत्रों के अनुसार शू चाइना से प्रथम विजिटिंग प्रोफेसर के रुप में शांतिनिकेतन आए थे  उन्होंने कलाभवन में अध्यापन किया था उस दौरान रवींद्रनाथ टैगोर ने दिसंबर , 1939 में शू बीहोंग की 150 से अधिक कलाकृतियों की प्रदर्शनी का उद्घाटन किया था

जिनपिंग ने मुलाकात को बताया खास
पहले दिन पीएम मोदी से मुलाकात के बाद शिखर बातचीत में शी जिनपिंग से बहुत ज्यादा खास बताया था उन्होंने बोला था कि यह मुलाकात वसंत के महीने में हो रही है  इस महीने में जो संबंधबनते हैं वह पवित्र माने जाते हैं

जिनपिंग की मुलाकात के बाद खुश हूं-मोदी
पहले दिन की मुलाकात के बाद पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘वुहान में राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मिलकर खुश हूं हमारी बातचीत व्यापक  सार्थक रही हमने हिंदुस्तान – चाइना संबंधों को  मजबूत करने  अन्य वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की ‘

चौथी बार चाइना यात्रा पर पीएम मोदी
वुहान में मोदी  शी के बीच पहली अनौपचारिक शिखर मीटिंग को हिंदुस्तान  चाइना के बीच भरोसे को फिर से कायम करने  संबंधों में सुधार के कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है , जो पिछले वर्ष 73 दिनों तक चले डोकलाम गतिरोध की वजह से प्रभावित हुआ था 2014 में सत्ता में आने के बाद से मोदी की चाइना की यह चौथी यात्रा है

Loading...
loading...