Tuesday , September 25 2018
Loading...

कैश क्रंच से जब भी हो आपको कठिनाई तो अपनाएं यह टिप्स

अगर अभी भी आपको एटीएम में अपनी वित्तीय जरुरतों को पूरा करने के लिए कैश संकट का सामाना करना पड़ रहा है तो फिर आपको ज्यादा परेशान होने की जरुरत नहीं है. अगर आपके पास Smart Phone है  इंटरनेट करने का इस्तेमाल जानते हैं, तो फिर डिजिटल तरीके से अपनी समस्या को कुछ हद तक सुलझा सकते हैं.

Image result for कैश क्रंच

नोटबंदी ने जो पहला सबक सभी को दिया वो था कि आप कैश को घर में दबा कर न रखें. ज्यादातर हिंदुस्तानियों में सेविंग की आदत होती है  एक वर्ष पहले लोगों के घरों में कैश बहुत ज्यादा अच्छी संख्या में पड़ा रहता था. अब लोग कैश को घर पर रखने के बजाय इन्वेस्ट करने लगे हैं. पैसा घर के बजाय बैंक अकाउंट या फिर गवर्नमेंट की किसी भी योजना में निवेश कर सकते हैं. इसके साथ ही छोटे-बड़े कारोबारी जो केवल कैश से बिजनेस करते थे, उनको भी नेटबैंकिंग  क्रेडिट और डेबिट कार्ड से लेन-देन करने की आदत पड़ गई.
नोटबंदी के बाद से लोग प्लास्टिक मनी का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने लगे हैं. इसने कैश पर निर्भरता बहुत ज्यादा हद तक कम हो गई है. डेबिट  क्रेडिट कार्ड के बढ़ते चलन ने भी इसे बहुत ज्यादा हद तक कम कर दिया है. बैंकों ने भी प्वाइंट ऑफ सेल मशीन की संख्या को भी बहुत ज्यादाबढ़ा दिया है.

हर आदमी को एटीएम पर कुल मिलाकर के आठ फ्री ट्रांजेक्शन करने की छूट मिली हुई है. इसमें से पांच ट्रांजेक्शन  अन्य बैंकों के एटीएम पर तीन ट्रांजेक्शन कर सकता है. आप डेबिट कार्ड को स्वाइप कई बार करा सकते हैं  इस तरह के ट्रांजेक्शन पर किसी तरह की कोई लिमिट तय नहीं की गई है.

Loading...

आप किसी  को पैसे देने के लिए नेटबैंकिंग का उपयोग कर सकते हैं. आप NEFT/RTGS  IMPS का लाभ उठा सकते हैं. एनईएफटी में पेमेंट करने की कोई लिमिट नहीं है. वहीं आरटीजीएस में 2 लाख रुपये से ऊपर का ही ट्रांजेक्शन कर सकते हैं. इसका फायदा ज्यादातर व्यापारी ले सकते हैं.इसके अतिरिक्त अगर आपको पेमेंट लेने की ज्यादा जल्दी है  छुट्टी वाले दिन भी पेमेंट करना चाहते हैं तो आईएमपीएस का फायदा ले सकते हैं. हालांकि इसमें केवल 2 लाख रुपये तक का ही पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं.

loading...
मोबाइल के जरिए फिक्सड डिपॉजिट खोलने, फंड ट्रांसफर करने, खाते में शेष राशि देखने, चेकबुक मंगाने आदि की सुविधाएं भी आप ले सकते हैं. साथ ही ग्राहकों को एटीएम सहित क्रेडिट कार्ड आदि के लेन-देन का भी एलर्ट भी मिलता है.
जिस तरह प्लास्टिक के क्रेडिट कार्ड ने कैश की स्थान ली थी, अब मोबाइल फोन प्लास्टिक मनी की स्थान ले रहा है. बैंक कई ऐसी सुविधाएं मोबाइल फोन पर उपलब्ध करा रहे हैं, जिनके लिए आपको बैंक शाखा के चक्कर लगाने पड़ते थे. अगर आप मोबाइल वॉलेट से जुड़े हैं तो इंटरनेट के बिना ही कहीं से भी लेन-देन कर सकते हैं. मोबाइल वॉलेट सेवा के एरिया में एयरटेल जियो, वोडाफोन जैसी टेलीकॉम कंपनियों के साथ-साथ पेटीएम, पेजैप, चिल्लर, एसबीआई योनो, ऑक्सीकैश  पे-मेट जैसे बैंकिंग  व्यक्तिगत  कंपनियां इस एरिया के पुराने महान हैं.
Loading...
loading...