Tuesday , September 25 2018
Loading...
Breaking News

वीरेंद्र के बदले बेवजह कर दी बुजुर्ग विजेंद्र की सर्जरी

दिल्ली गवर्नमेंट के सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर में घोर लापरवाही का मामला सामने आया है. वहां जिस मरीज की सर्जरी होनी थी, उसकी स्थान दूसरे की सर्जरी कर दी गई. परिजनों ने शुक्रवार को मामले की सूचना सिविल लाइंस थाने को देकर बहुत ज्यादा हंगामा किया. वहीं अस्पताल के एमएस अजय बहल ने ऐसे किसी मामले से साफ मना किया है. जानकारी के मुताबिक, वीरेंद्र नामक मरीज के पैर की सर्जरी होनी थी, लेकिन डॉक्टरों ने विजेंद्र त्यागी नामक शख्स की सर्जरी कर दी, जबकि उसे इसकी आवश्यकता नहीं थी.
Image result for trauma center

पीड़ित के बेटे अरुण त्यागी ने बताया कि वह गाजियाबाद में लोनी के मंडोला में रहते हैं. उनके पिता किसान हैं, अरुण खुद मेट्रो में कार्य करते हैं. 17 अप्रैल को उनके पिता का 8 बजे ट्रोनिका सिटी में दुर्घटना हो गया, वह बाइक पर थे. पिता की आंखों पर ट्रक की रोशनी की चमक पड़ी, जिससे उनकी बाइक अनियंत्रित हो गई. हादसे में वह बुरी तरह घायल हो गए. परिजन उन्हें हादसे के करीब 2 घंटे बाद 10 बजे सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर लेकर आए.

डॉक्टरों ने उन्हें भर्ती कर सिर में सात टांके लगाए. बृहस्पतिवार को अस्पताल से उनकी छुट्टी होनी थी.अरुण का आरोप है कि बृहस्पतिवार को वीरेंद्र नामक मरीज भी आया, जिसके पैर में रॉड पड़नी थी.चिकित्सक गलती से उसकी स्थान उनके पिता को ले गए  उनके पैर का ऑपरेशन कर दिया. इस दौरान वहां मौजूद मां विमला को बाहर जाने को कहा. अरुण का कहना है कि उनके पिता को पैर में कोई चोट नहीं थी.

Loading...

पीड़ितों को पता ही नहीं चला क्या हुआ

loading...

सब कुछ इतनी जल्दी में हुआ कि विजेंद्र त्यागी डॉक्टरों को यह नहीं बता पाए कि उनके पैर की सर्जरी नहीं होनी है. उन्हें पहले सुन्न होने का इंजेक्शन दिया गया, फिर बेहोश कर दिया गया.

डॉक्टर देते रहे दिलासा 

मामले की जानकारी मिलने के बाद चिकित्सक उसे दिलासा देते रहे. जानकारी के मुताबिक देर शाम को डॉक्टरों ने इस मामले में समझौता करने की भी प्रयास की.

Loading...
loading...