Friday , May 25 2018
Loading...

2-जी स्पेक्ट्रम मामले में सीबीआई की अपील पर एस्सार

दिल्ली न्यायालय ने 2जी स्पेक्ट्रम घोटाला मामले से जुड़े दूसरे मामले में सीबीआई की याचिका पर एस्सार और लूप टेलीकॉम के प्रमोटर और अन्य प्रतिवादियों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. CBIने एस्सार और लूप टेलीकॉम के मामले में निचली न्यायालय के निर्णय को न्यायालय में चुनौती दी है.
Image result for 2-जी स्पेक्ट्रम

पेश मामला एस्सार टेलीकॉम और लूप टेलीकॉम को स्पेक्ट्रम आवंटन से जुड़ा है. निचली न्यायालय ने इस मामले में भी सभी आरोपियों और कंपनियों को रिहा कर दिया था. जस्टिस एसपी गर्ग ने एस्सार समूह के प्रमोटर रविकांत रुइया और अंशुमन रुइया, लूप टेलीकॉम के प्रोमोटर आईपी खेतान औरकिरण खेतान, एस्सार समूह के निदेशक विकास सर्राफ और अन्य प्रतिवादियों को नोटिस जारी कर पक्ष रखने का आदेश दिया है.

अगली सुनवाई 25 मई को होगी. बता दें कि पटियाला हाउस स्थित विशेष CBI न्यायालय ने ठोस साक्ष्यों के अभाव में पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री और सांसद कनिमोझी समेत 17 आरोपियों को CBI के दो और प्रवर्तन निदेशालय के एक मुकदमे से 21 दिसंबर 2017 को रिहा कर दिया था. CBI ने इस याचिका में बोला है कि निचली न्यायालय ने आरोपियों को बरी करने का निर्णय गलत सुनाया है.अभियोजन की ओर से ठोस साक्ष्य मुहैया करवाये थे लेकिन निचली न्यायालय ने इन साक्ष्यों पर अच्छासे विचार नहीं किया.

Loading...