Tuesday , September 25 2018
Loading...
Breaking News

पीएम मोदी की मेजबानी के लिए ब्रिटेन में खास बंदोवस्त

भारत कॉमनवेल्थ में एक नयी जिम्मेदारी निभाने के लिए तैयार है. यह एक बहुपक्षीय समूह है जो हिंदुस्तान की वैश्विक आकांक्षाओं के लिए बहुत ज्यादा अच्छा कार्य कर सकता है. कॉमनवेल्थ में चाइना की मौजूदगी नहीं है ऐसे में हिंदुस्तान के पास मौका है कि वह मजबूत प्रतिनिधि के रूप में सामने आकर नेतृत्व कर सके. हिंदुस्तान कॉमनवेल्थ को एक नया आयाम देने में मददगार साबित हो सकता है. पीएम नरेंद्र मोदी कॉमनवेल्थ में हिंदुस्तान के वित्तीय सहयोग को लगभग दोगुना करने वाले हैं.
Image result for पीएम मोदी की मेजबानी के लिए ब्रिटेन में खास बंदोबस्त

मोदी लंदन में कॉमनवेल्थ हेड्स सरकार बैठक (सीएचओजीएम) में भाग लेने वाले हैं. इससे यह इशारा दिया जाएगा कि हिंदुस्तान ज्यादा  बड़ी जिम्मेदारियां उठाने के लिए तैयार है. इससे हिंदुस्तान के कॉमनवेल्थ में जरूरी शक्ति बनकर उभरने के संभावना हैं. यह समाचार भी है कि मोदी की मेजबानी के लिए ब्रिटेन ने खास बंदोवस्त किए हैं. जिसकी वजह से अटकलें हैं कि हिंदुस्तान को जरूरी जिम्मेदारी दी जा सकती है. कॉमनवेल्थ से मिलने वाली बड़ी जिम्मेदारियों को लेकर दिल्ली में तैयारियां प्रारम्भ हो चुकी हैं.

वर्ष 2009 के बाद यह पहला मौका है जब कोई इंडियन पीएम सीएचओजीएम में भाग ले रहा है.माल्टा में हुई आखिरी समिट मोदी ने खुद ही छोड़ दी थी. ब्रिटेन में हिंदुस्तान के उप-उच्चायुक्त दिनेश पटनायक ने कहा- हिंदुस्तान का प्रतिनिधित्व कई वैश्विक संगठनों में बढ़ा  कॉमनवेल्थ भी उनमें से एक है. कॉमनवेल्थ में शामिल एक सबसे बड़े राष्ट्र के रूप में हिंदुस्तान अंतरराष्ट्रीय मंच पर नेतृत्व कर बड़ी किरदार निभाने का इच्छुक है. उम्मीद है कि कॉमनवेल्थ में हिंदुस्तान की जिम्मेदारियां बढ़ेंगी.

Loading...

लंदन में मोदी की द्वीपक्षीय बातचीत में महारानी एलिजाबेथ के एक दर्शक के तौर पर शामिल होंगी.महारानी संभवत: अपने आखिरी सीएचओजीएम समिट की मेजबानी कर रही हैं. यह अभी तक साफ नहीं हुआ है कि उनके बाद कॉमनवेल्थ का प्रमुख कौन बनेगा. माना जा रहा है कि नेताओं के साथ वाटरलू चैंबर में चर्चा के बाद इसका निर्णय होगा  हिंदुस्तान के लिए यह जरूरी मौका है.

loading...
Loading...
loading...