Wednesday , April 25 2018
Loading...

गोल्ड जीतने के बाद साइना ने क्यों कहा

गोल्ड कोस्ट : साइना नेहवाल ने बोला कि उन्हें कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले खेल गांव में ठहरने को लेकर अपने पिता के लिये आवाज उठाने का कोई खेद नहीं है तब उन्होंने एकल  टीम स्पर्धा से हटने की धमकी तक दे डाली थी साइना ने हमवतन  शीर्ष वरीयता प्राप्त पीवी सिंधू को हराने के बाद कहा, ‘मुझे अपने पिताजी के लिये कहीं भी किसी से भी भिड़ने में परहेज नहीं है लोगों का कहना है कि मैंने अपने पिता को पहले रखा़ लेकिन ऐसा नहीं है अगर ऐसा होता तो मैं अपने राष्ट्र के लिये पदक नहीं जीतती ’

Image result for गोल्ड जीतने के बाद साइना ने क्यों कहा

उन्होंने अपने पिता को खेल गांव में प्रवेश नहीं मिलने के संदर्भ में कहा, ‘मुझसे क्यों बोला गया कि सारी व्यवस्था कर दी गयी है जबकि ऐसा नहीं किया गया था अगर मुझे पता होता तो मैं उनके लिये होटल में कमरा बुक करवा देती उन्हें व्यक्तिगत कोच का मान्यता लेटर मिला था  लंबी यात्रा के बाद मुझे इस तरह की स्थिति से जूझना पड़ा ’

यह भी पढ़ें:   विशाखापट्टनम वन-डे में हार्दिक पांड्या ने की 31 साल पुराने इस रिकॉर्ड की बराबरी
Loading...
loading...

साइना ने बोला कि इससे उनका ध्यान खत्म हुआ  इससे वह बहुत ज्यादा तनाव में थी उन्होंने कहा, ‘दो दिन तक मैं सो तक नहीं पायी मैं वहां तीन चार घंटे बैठे नहीं रह सकती थी मैं सरकारी ऑफिसर नहीं हूं मैं एक खिलाड़ी हूं मुझे मैच खेलने होते हैं सिंधू टीम स्पर्धा में नहीं खेल रही थी मुझे वहां अच्छा प्रदर्शन करना था कई बार चीजों को सामान्य होने में समय लगता है लेकिन मुझे लगता है कि अगर मैंने तब वैसा रवैया नहीं अपनाया होता तो ऐसा नहीं होता ’

यह भी पढ़ें:   टेबल टेनिस व बैडमिंटन से अच्छी खबर

साइना ने कहा, ‘वह दो दिन तक खेल गांव के बाहर बैठे रहे वह यहां तक कि डाइनिंग हॉल तक नहीं आ पाये उनके यहां आने का क्या मतलब था यह तनावपूर्ण स्थिति थी, लेकिन आपको इससे लड़ना होता है मुझे विश्राम की आवश्यकता थी रोजर फेडरर कहता है कि वह 10-12 घंटे सोता है मैं आधे घंटे भी नहीं सो पायी क्योंकि मेरे पिता बाहर बैठे हुए थे मैं कैसे सो पाती ’

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
Loading...
loading...