Friday , September 21 2018
Loading...

‘फेसबुक तैयार- हिंदुस्तान में होने वाले चुनाव सुरक्षित रहेंगे’

नई दिल्ली: डाटा लीक मामले में के सामने माफी मांगी उन्होंने बोला जो कुछ भी हुआ उसके लिए सिर्फ वो जिम्मेदार हैं मार्क जुकरबर्ग ने सीनेट को यह भी भरोसा दिलाया कि वह  उनकी टीम इस पर कार्य कर रहे हैं कि हिंदुस्तान  दूसरे राष्ट्रों में होने वाले चुनाव बिल्कुल निष्पक्ष हों जुकरबर्ग के मुताबिक, उनकी कंपनी हर मुमकिन प्रयास कर रही है कि जो गलती हुई वो दोबारा न दोहराई जाएने बोला 2018 एक बेहद अहम वर्ष है हिंदुस्तान  पाक जैसे कई राष्ट्रों में चुनाव होने हैं ”हम हर मुमकिन प्रयास कर रहे हैं चुनाव पूरी तरह सुरक्षित रहें, इस पर कार्य चल रहा है ”

Related image

फेसबुक नहीं निभा पाया जिम्मेदारी
के सीईओ  फाउंडर ने बोला फेसबुक अपनी जिम्मेदारी पूरी तरह से नहीं निभा पाया उन्होंने माफी मांगते हुए यह माना कि उनके प्लटेफॉर्म का प्रयोग झूठी खबरों  चुनाव को बिगाड़ने के लिए किया गया

Loading...

जुकरबर्ग ने जताया अफसोस
33 वर्षिय अरबपति जुकरबर्ग ने बोला उन्हें अफसोस है कि उनकी कंपनी ने रूस की गड़बड़ी को देर से पकड़ा जिसका लाभ डोनाल्ड ट्रंप को मिला आज वह अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति हैं

loading...

मजबूत कर रहे हैं सिक्योरिटी फीचर्स
मार्क जुकरबर्ग ने बोला कि हिंदुस्तान में आगामी चुनावों को देखते हुए वह इसके सिक्योरिटी विशेषता को  मजबूत कर रहा है जुकरबर्ग ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) टूल का हवाला देते हुए बोला कि इसे फेसबुक पर लाया गया है ताकि चुनावों को प्रभावित करने  न्यूज को मैनुपुलेट करने वाले फेक अकाउंट्स की पहचान हो सके ऐसा टूल पहली बार फ्रांस के चुनाव में वर्ष 2017 में लाया गया था

फर्जी अकाउंट की पहचान के लिए एआई टूल
मार्क जुकरबर्ग ने बोला ‘नए AI टूल को हमने 2016 के चुनाव के बाद बनाया था मैं ऐसा मानता हूं कि करीब 30 हजार से ज्यादा फेक अकाउंट्स जो रूस से जुड़े थे वो अच्छा अमेरिका में 2016 में हुए चुनाव की तरह ही रणनीति अख्तियार करना चाहते थे लेकिन, हमने उन सभी को डिसएबल कर फ्रांस में बड़े पैमाने पर होनेवाली इस तरह की चीजों से बचा लिया ‘ जुकरबर्ग ने बोला ‘पिछले वर्ष2017 में अलबामा में विशेष चुनाव के दौरान हमने कुछ नए एआई टूल्स फर्जी एकाउंट्स  फेक न्यूज की पहचान के लिए लेकर आए जिसके बाद हमने ये पाया कि बड़ी तादाद में मोसीडोनियन एकाउंट्स बने थे जो गलत न्यूज फैला रहे थे जिसे हमने सोशल प्लेटफॉर्म से हटा दिया ‘

रूस ने लगाई सेंध
जुकरबर्ग ने रूस पर आरोप लगाते हुए कहा, “रूस में लोग हैं जिनका कार्य हमारे सिस्टम, दूसरे इंटरनेट सिस्टम  अन्य सिस्टम में सेंध लगाकर लाभ उठाना है ऐसे में यह हथियारों की दौड़ हैजिसे बेहतर बनाए रखने  इसे बेहतर करने के लिए इसमें निवेश करने की आवश्यकता है ” जुकरबर्ग ने माना कहा, “मैंने फेसबुक के 8.70 करोड़ यूजर्स के व्यक्तिगत डेटा का दुरुपयोग रोकने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाए, जबकि यह मेरी जिम्मेदारी थी ”

Loading...
loading...