Monday , November 19 2018
Loading...

पहली बार जा रहे वैष्णों देवी, तो इन बातों का रखे ध्यान

हिन्दू धर्म में तीर्थ यात्रा पर जाना पाप मुक्त के समान माना गया है. इसलिए हर इंसान तीर्थ यात्रा पर जरूर जाता है  उसे जाना चाहिए. लेकिन अगर आप पहली बार वैष्णों देवी के दर्शन के लिए जा रहे हैं, तो इसके लिए महत्वपूर्ण है कि आप पूरी विधि-विधान के साथ माता के दर्शन करें तभी आपको इसाक पूरा लाभ होगा. आज हम आपको इसी विषय से जुड़ी कुछ ऐसी ही बातों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे आप जानकर अगर पहलीबार वैष्णों देवी के दर्शन के लिए जा रहे है. तो आपको भी माता का आशीर्वाद निश्चित ही प्राप्त होगा. तो चलिए जानते हैं कौन सी वह बातें हैं, जो माता के दर्शन से पहले जान लेना महत्वपूर्ण है?

Image result for पहली बार जा रहे वैष्णों देवी, तो इन बातों का रखे ध्यान

माता वैष्णो देवी मंदिर- माता वैष्णो देवी मंदिर की यात्रा का पहला पड़ाव जम्मू में होता है. यहां तक आप ट्रेन, बस या फिर हवाई जहाज से पहुंच सकते हैं. जम्मू ब्राड गेज लाइन द्वारा जुड़ा है. हमारी आपको हिदायत है कि आप मंदिर तक अपनी टैक्सी कर के या फिर बस से जाएं क्योंकि गर्मी में भक्तों की यहां बहुत ज्यादा भीड़ हो जाती है जिससे ट्रेन बहुत ज्यादा भरी होती है. उत्तर हिंदुस्तान के कई प्रमुख शहरों से जम्मू के लिए आपको सरलता से बस और टैक्सी मिल सकती है.

Loading...

शुरुआत कटरा से- अगर बात की जाए वैष्णों देवी भवन की तो उसकी आरंभ कटरा से होती है. जम्मू से कटरा की दूरी लगभग 50 किमी है. जम्मू से बस या टैक्सी द्वारा कटरा पहुंचा जा सकता है. यहां आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि जम्मू रेलवे स्टेशन से कटरा के लिए बस सेवा भी उपलब्ध है जिससे 2 घंटे में सरलता से कटरा पहुंचा जा सकता है. माता वैष्णो देवी मंदिर यात्रा की आरंभकटरा से होती है, इसलिए कटरा पहुंचकर थोड़ी देर आराम कर लें. क्योंकि इसके बाद आपको वैष्णो देवी की चढ़ाई प्रारम्भ करनी है. आप पूरे दिन में कभी भी मां वैष्णों देवी की चढ़ाई प्रारम्भ कर सकती हैं.

loading...

6 घंटे में दिखानी होती है पर्ची-वैष्णों देवी के मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको पर्ची कटवानी पड़ेगी, जिसे आपको 6 घंटे के अंदर ही फर्स्ट चेकिंग पॉइंट पर दिखानी होती है. कटरा से लगभग 14 मीटर खड़ी चढ़ाई के बाद ही मां के भवन के दर्शन होते हैं. आप यहां तक घोड़े  पालकी की सहायता से भी जा सकतेहैं. इसके लिए आपको 1000  2000 तक पैसे खर्च करने पड़ सकते हैं.

अब करें भैरव दर्शन-वैष्णो देवी के बाद भैरव दर्शन जरूरकरें. क्योंकि यहां कि मान्यता है कि यदि आप पहली बार वैष्णों देवी गए हैं, तो भैरव मंदिर के दर्शन करने के बाद ही आपकी मुराद पूरी होगी.भैरव मंदिर, वैष्णो देवी के भवन से लगभग 3 किलोमीटर दूरी स्थित है. वैसे कई भक्त जब-जब मां वैष्णों देवी के दर्शन करने आते हैं तब-तब भैरव के दर्शन करने भी जरूर जाते हैं.

Loading...
loading...