Monday , December 17 2018
Loading...

बुलेट ट्रेन की जमीन अधिग्रहण प्रक्रिया का किसान कर रहे हैं विरोध

वडोदरा, .गुजरात में अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया पर बुलाई गई मीटिंग में किसानों का विरोध हावी रहा. किसानों का कहना है कि उन्हें संक्षिप्त सूचना पर सोमवार को हुई मीटिंग में बुलाया गया था. दरअसल, नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन (एनएचएसआरसी) ने रविवार को अखबार में मीटिंग से संबंधित एक नोटिस प्रकाशित कराया था.इस नोटिस में बोला गया था कि भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए संबद्ध पक्षों की दूसरी मीटिंग बुलाई जा रही है.

Image result for बुलेट ट्रेन की जमीन अधिग्रहण प्रक्रिया का किसान कर रहे हैं विरोध

किसानों का दावा है कि पहली बैठक कभी हुई ही नहीं थी. मीटिंग के लिए दी गई सूचना में घालमेल से भड़के किसानों ने एनएचएसआरसी के अधिकारियों से पहली बैठक का ब्योरा उपलब्ध कराने की मांग की. किसानों के प्रतिनिधि कृष्णकांत ने कहा, मीटिंग का एजेंडा  उद्देश्य स्पष्ट नहीं है.ऑफिसर इसे दूसरी मीटिंग बता रहे हैं जबकि किसी को पता ही नहीं है कि पहली बैठक कब हुई थी.कम समय में सूचना दिए जाने के कारण ब़़डी संख्या में किसान बैठक में पहुंच नहीं पाए.‘ किसानों ने वडोदरा और भरच के कलेक्टर को अपनी मांग से संबंधित एक ज्ञापन भी सौंपा.

Loading...

गौरतलह है कि भावनगर जिले के एक गांव में प्रस्तावित कोयला संयंत्र के वास्ते जमीन पर कब्जा लेने के लिए गुजरात गवर्नमेंट की एक कंपनी के कदम पर किसानों ने विरोध जताया था. गुजरात क्षमता कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने लगभग दो दशक पहले अपना प्रस्तावित लिग्नाइट संयंत्र स्थापित करने के लिए भावनगर में घोघा तालुक के 12 गांवों में लगभग 1,250 किसानों की 3,377 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था.

loading...
Loading...
loading...