Friday , September 21 2018
Loading...
Breaking News

चाइना ने हिंदुस्तान से कहा- सीमा मुद्दे को तूल देने से बचें

बीजिंग: चाइना ने भारत को असली नियंत्रण रेखा (एलएसी) का सम्मान करने  सीमा मुद्दे को तूल देने से परहेज करने तथा सीमाई एरिया में अमन-चैन बनाए रखने के लिए उसके साथ मिलकर कार्यकरने को कहा चीनी विदेश मंत्रालय ने अरुणाचल प्रदेश से लगे सामरिक रूप से संवेदनशील आसाफिला इलाके में इंडियन सैनिकों के ‘‘अतिक्रमण’’ पर चाइना की ओर से दर्ज कराए गए विरोध संबंधी समाचार को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में यह टिप्पणी की  इंडियन पक्ष ने बीजिंग की शिकायत को खारिज कर दिया

Image result for सीमा मुद्दे को तूल देने से बचें

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने समाचार को लेकर सीधा जवाब नहीं दिया  कहा, ‘‘चीन-भारत सीमा पर हाल में घटित जिस घटना का आपने जिक्र किया है मैं उस मामले से अच्छी तरह वाकिफ नहीं हूं  ’’ गेंग ने कहा, ‘‘ सीमा मुद्दे के निवारण तक उम्मीद है कि समझौता प्रोटोकॉल के तहत इंडियन पक्ष असली नियंत्रण रेखा का सम्मान  इसका पालन करे  मुद्दों को तूल देने से परहेज करते हुए सीमाई एरिया में अमन-चैन बहाल रखने के लिए चाइना के साथ मिलकर कार्य करे  ’’

 

हालांकि, उन्होंने बोला कि चाइना ने लगातार बोला है कि बीजिंग अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं देता उसका दावा है कि यह दक्षिणी तिब्बत का भाग है गेंग ने कहा, ‘‘भारत-चीन सीमा पर चाइना का रूख समान  स्पष्ट है चाइना की गवर्नमेंट ने तथाकथित अरूणाचल प्रदेश को कभी मान्यता नहीं दी  ’’

उन्होंने कहा, ‘‘चीन  हिंदुस्तान सीमाई मुद्दों को सुलझाने  उचित तथा तर्कसंगत निवारण के लिए विचार-विमर्श  समझौता बातचीत में भागीदारी कर रहे हैं, जो कि दोनों पक्षों को स्वीकार्य हो  ’’ दोनों राष्ट्रों में सीमाई मुद्दे को सुलझाने के लिए विशेष प्रतिनिधि स्तरीय बातचीत का तंत्र है सीमा टकराव सुलझाने के लिए दोनों राष्ट्रों के बीच अब तक 20 वें दौर की बातचीत हो चुकी है  3488 किलोमीटर लंबी एलएसी के पास शांति बनाए रखने के लिए विभिन्न तंत्र है

Loading...
Loading...
loading...