Saturday , September 22 2018
Loading...
Breaking News

50 फीट की पहाड़ी चढ़ कर दी दर्दनाक हादसे की सूचना

गिरती बस से बाहर छिटके बच्चे ने हिम्मत कर पहले 50 फीट की पहाड़ी चढ़ी. फिर सड़क तक पहुंचकर उसी ने सबसे पहले सड़के से गुजरते बाइक सवार को ये समाचार दीअंकल! हमारी स्कूल बस यहां से गिर गई.
Image result for 50 फीट की पहाड़ी चढ़ कर दी दर्दनाक हादसे की सूचना

पांचवीं कक्षा का यह बालक रणबीर ही इस पूरे हादसे का चश्मदीद गवाह है. वह कहा – सामने से एक बाइक आ रही थी, उसे पास देने के चक्कर में ही बस खाई में गिर गई. चेली गांव में हुए हादसे का लाइव घटनाक्रम बस में बैठे पांचवीं कक्षा के विद्यार्थी रणबीर ने सुनाया.

दस वर्ष का रणबीर नूरपुर अस्पताल में उपचाराधीन है. रणबीर ने बताया, जिस समय बस गिरी, दूसरी ओर से एक बाइक आ रही थी. बाइक को पास देने के लिए बस चालक ने गाड़ी बाहर की ओर निकाली  बाहर गड्ढा होने के कारण बस खाई में लुढ़क गई.

Loading...
जैसे ही बस नीचे गिरी तो रणबीर पुत्र सुरेश कुमार पहले ही बाहर गिर गया. उसके साथ चौथी कक्षा में पढ़ने वाली ठेहड़ गांव की अवनी भी बाहर गिरी. बाहर गिरने के बाद रणबीर ने अवनी को देखा, लेकिन पहाड़ी होने के कारण अवनी नीचे फिसल रही थी.

रणबीर ने उसे झाड़ियां पकड़कर बैठने को कहा. उसके बाद रणबीर लगभग 50 फीट की सीधी पहाड़ी चढ़कर सड़क तक पहुंचा. तभी वहां से रणबीर के गांव पराजय गतला का एक बाइक सवार वहां से गुजर रहा था.

loading...

जिसे उसने सूचना दी. बाइक सवार बच्चे को 500 मीटर दूर एक दुकान में ले गया  वहां से दुकानदार के माध्यम से हादसे की सूचना प्रशासन को दी. उसके बाद वहां अफरा-तफरी का माहौल हो गया.

सात वर्ष के निशांत कुमार का सोमवार को स्कूल में पहला दिन था. हादसे के दौरान बस में निशांत की दो बहनें भी सवार थीं. तीन भाई-बहन हादसे में घायल हुए हैं. बस में निशांत की बहन वंशिका भी थी, जो सातवीं कक्षा में पढ़ती है.

इसके अतिरिक्त एक बड़ी बहन शिवानी थी जो नौवीं कक्षा में पढ़ाई करती हैं. तीनों बच्चों की माता संजना ने बोला कि उनकी दो बेटियां पठानकोट अस्पताल में उपचाराधीन हैं, जबकि निशांत का नूरपुर में उपचार चल रहा है.

मुनीष का था स्कूल का दूसरा दिन  
चेली हादसे में घायल मुनीष कुमार एलकेजी का विद्यार्थी है. सोमवार को स्कूल में उसका दूसरा दिन था. मुनीष का नूरपुर में इलाज चल रहा है. मुनीष की माता निशा देवी ने बताया कि ईश्वर का शुक्र है, उनका लाल बच गया, लेकिन हादसे में कई परिवार उजड़ गए हैं. इसके अतिरिक्त ठेहड़ गांव की कनिका भी हादसे में घायल हुई है, जो छठी कक्षा में पढ़ती है.

Loading...
loading...