Monday , September 24 2018
Loading...
Breaking News

एक लाख पश्तून गवर्नमेंट के खिलाफ

पाकिस्तान के हालत ख़राब होते जा रहे है अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से संघ प्रशासित कबायली इलाके (फाटा) में युद्ध क्राइम मामलों में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से हस्तक्षेप की मांग कर रहे एक लाख पश्तूनों ने रविवार को गवर्नमेंट के विरूद्ध विशाल रैली निकाली खैबर पख्तून ख्वाह  फाटा से हजारों की संख्या में लोग पिशताखरा चौक पर जमा हुआ  उन्होंने ‘यह किस तरह की आजादी’ का नारा लगाया पाक के खबर लेटर डॉन के अनुसार इस रैली में लापता हुए लोगों के परिवार ने भी भागलिया उनके हाथ में लापता लोगों की फोटोज़ भी थीं इस दौरान पीटीएम के नेता मंजूर पश्तीन ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ‘हम सिर्फ दमन करने वालों के विरूद्ध हैं हम सिर्फ अपने राष्ट्र के एजेंट हैं लापता लोगों के लिए अब तक क्या किया गया है मां  बुजुर्गों जिनके अपने खोए हैं उन्हें मजबूर नहीं किया जा सकता लापता लोगों के परिजन अपने प्रियजनों की तस्वीर लिए मार्च में शामिल हुए

Image result for पाकिस्तान में एक लाख पश्तून गवर्नमेंट के खिलाफ

बताया जा रहा है कि सोशल मीडिया के जरिये इतनी बड़ी संख्या में लोग पाक की सड़कों पर उतरे लोकल लोगों को सरकारी दमन के बारे में बताया हालांकि पाक की टेलीविजन मीडिया में इतने बड़े धरना प्रदर्शन को नजरअंदाज किया गया पश्तूनों की पाक गवर्नमेंट से यह भी मांग है कि संघ प्रशासित कबायली इलाके कर्फ्यू समाप्त किया जाना चाहिए स्कूल कॉलेज  अस्पताल खुलने चाहिए क्योंकि इससे इस इलाके में आम जनजीवन प्रभावित हो रहा है कर्फ्यू हटने के बाद ही पश्तूनों का ज़िंदगी सामान्य हो सकता है प्रदर्शनकारियों का कहना था कि उनके समुदाय के मानवाधिकारों का पाक उल्लंघन कर रहा है  उन्हें आजादी मिलनी चाहिए पश्तून आंदोलन के नेता 26 वर्षीय मंजूर पश्तीन हैं, जो जनजातीय इलाके के वेटनरी विद्यार्थी हैं उनके उदय को एक नए सीमांत गांधी के रूप में देखा जा रहा है उनका कहना है कि ‘हम हिंसा में यकीन नहीं करते हैं, न तो हम आक्रामक भाषा का प्रयोग करते हैं  न ही हिंसा का हमारा इरादा है अब यह गवर्नमेंट पर है कि वह हमें अपने शांतिपूर्ण प्रदर्शन के हक का प्रयोग करने देती है या हमारे विरूद्ध हिंसक उपायअपनाती है ‘

Loading...

पश्तीन दक्षिण वजीरिस्तान से ताल्लुक रखते हैं, जो पश्तून बहुल संघ प्रशासित जनजातीय इलाके (फाटा) का भाग है पीटीएम कुछ दिन पहले तब सुर्खियों में आया था, जब जनजातीय इलाके के हजारों लोगों का नेतृत्व करते हुए कराची में एक युवा पश्तून की सिंध पुलिस द्वारा मर्डर का विरोध करते हुए वे इस्लामाबाद पहुंचे थे

loading...
Loading...
loading...