Tuesday , November 20 2018
Loading...

चीन की असहमति को हिंदुस्तान ने किया ख़ारिज

बीजिंग: ‘उल्टा चोर कोतवाल को डांटे’ यह कहावत चाइना के इस बयान पर सौ फीसदी सटीक बैठती है हिंदुस्तान की सीमा में स्थित डोकलाम में सड़क बनाने वाले चाइना ने अब इंडियन जवानों की पेट्रोलिंग को अतिक्रमण बताया है अरूणाचल प्रदेश में सामरिक रूप से संवेदनशील असाफिला इलाके में सीमा के पास इंडियन जवानों की पेट्रोलिंग को चाइना ने अतिक्रमण करार देते हुए पिछले महीने विरोध दर्ज कराया था आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, चाइना की इस असहमति को इंडियनपक्ष ने पूरी तरह से खारिज कर दिया

Image result for चीन हिंदुस्तान

बॉर्डर व्यक्तिगत बैठक में उठाए गए इस मुद्दे पर हिंदुस्तान की तरफ से यह साफ कर दिया गया है कि अरूणाचल प्रदेश का ऊपरी सुबानसिरी एरिया हिंदुस्तान का भाग है  वहां पर लगातार पेट्रोलिंग की जाती रही है पीटीआई ने अपने सूत्रों के हवाले से बताया है कि चाइना की तरफ से हिंदुस्तान के इस पेट्रोलिंग को अतिक्रमण करार दिया गया  हिंदुस्तान ने चाइना के इस बयान का कड़ा विरोध किया

Loading...

बीपीएम के तहत दोनों ही पक्षों की ओर से किसी भी अतिक्रमण की घटना पर अपना विरोध दर्ज कराया जाता है क्योंकि दोनों राष्ट्रों के बीच नियंत्रण रेखा को लेकर आपस में अलग-अलग राय हैआपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि पीटीआई से सूत्रों के हवाले से बताया है कि चीनी की सेना की तरफ से विशेष तौर पर असाफिला के नजदीक फिश्तैल-1 में 21, 22  23 दिसंबर को की गई बड़े स्तर पर पेट्रोलिंग को उठाया गया था हिंदुस्तान  चाइना की सेना के जवानों ने सीमा पर उपजे तनाव के निवारण के लिए बीपीएम की थी

loading...
Loading...
loading...