Wednesday , September 19 2018
Loading...

ग्वालियर कलेक्टर-एसपी को मिली क्लीनचिट

हिंदुस्तान बंद के दौरान जो हिंसक आंदोलन हुआ, उसके लिए न कलेक्टर-एसपी जिम्मेदार हैं न ही कोई इंटेलिजेंस फेल्योर हुआ जो भी गलती हुई, वह तो हमारे समाज में मौजूद जातिवादी मानसिकताका नतीजा है उसकी वजह से हमें इस तरह का हिंसक आंदोलन देखने को मिला यह कहना है प्रदेश के मुख्य सचिव का, जो ग्वालियर-भिंड और मुरैना के दौरे के बाद शनिवार को डीजीपी के साथ मोतीमहल स्थित मान सभागार में आम लोगों से मिलने के लिए आए थे

Related image

भारत बंद के दौरान 2 अप्रैल को हुए उपद्रव के बाद दशा देखने-समझने के लिए आए मुख्य सचिवतथा डीजीपी शनिवार दोपहर थाटीपुर में उस जगह पर पहुंचे, जहां से उपद्रव भड़कने की आरंभहुई थी  गोली लगने से दो लाेगों की मौत हो गई थी

Loading...

बैठक में डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला ने बोला कि सोशल मीडिया पर 10 अप्रैल को सवर्ण समाज द्वारा बुलाए गए बंद को लेकर तरह-तरह की अफवाहें चल रही हैं लेकिन अभी तक कलेक्टर या एसपी के पास किसी समाज विशेष ने 10 अप्रैल के बंद को लेकर औपचारिक अनुमति तक नहीं मांगी है मीटिंग में अलग-अलग राजनीतिक दल, समाज के लोगों ने अपनी समस्याएं भी मुख्य सचिव और डीजीपी के समक्ष रखी

loading...
Loading...
loading...