Wednesday , November 21 2018
Loading...
Breaking News

चाइना ने अमेरिका की हजारों फैक्ट्रियों को तबाह किया

वाशिंगटन : ट्रंप प्रशासन के इस्पात  एल्यूमीनियम आयात पर शुल्क लगाने के बाद चाइना अमेरिका के बीच चल रहा थमने का नाम नहीं ले रहा है अब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चाइना के साथ व्यापार संबंधी टकराव को तेज करते हुए चीनी उत्पादों पर 100 अरब अमेरिकी डॉलर का अलावा शुल्क लगाने के लिए बोला है यह अमेरिका में आने वाले 1300 चीनी प्रोडक्ट पर पहले से ही प्रस्तावित 25 प्रतिशत आयात शुल्क के अतिरक्त है तीन अप्रैल को अमेरिकी व्यापार रीप्रजेंटेटिव (यूएसटीआर) ने चाइना से आने वाले सामान पर 25 फीसदी शुल्क लगाने की घोषणा की थी इसके बाद चाइना ने भीImage result for Trade War पर बोले ट्रंप, चाइना ने अमेरिका की हजारों फैक्ट्रियों को तबाह किया बदले में अमेरिकी प्रोडक्ट पर भी इतना आयात टैरिफ लगाने की घोषण की थी

चीन की जवाबी कार्रवाई का बदला
ट्रंप ने बोला कि हमारा अलावा शुल्क का फैसला चाइना की जवाबी कार्रवाई के बदले में हैं ट्रंप ने बोला कि अपनी गलतियों को सुधारने की बजाय चाइना हमारे किसानों  उत्पादकों को नुकसान पहुंचाना चाहता है चाइना की जवाबी कार्रवाई को देखते हुए मैंने यूएसटीआर से यह देखने को बोलाहै कि क्या धारा 301 के तहत 100 अरब डॉलर का अलावा शुल्क उचित रहेगा  अगर हां तो उन उत्पादों की पहचान करो जिनमें ये शुल्क लगाए जा सकते हैं

Loading...

लाखों अमेरिकी नौकरियां चली गईं 
ट्रंप ने चाइना पर अमेरिका की बौद्धिक संपदा को गलत तरीके से हथियाने के लिए लगातार कार्यकरने का आरोप लगाते हुए बोला यूएसटीआर की जांच में चाइना की कार्यप्रणाली को विस्तार से दर्ज किया गया है  उससे विश्वभर में चिंता है ट्रंप ने कहा, ‘चीन की गैरकानूनी व्यापार गतिविधियां? वाशिंगटन में सालों इसकी अनदेखी की गई? उसने अमेरिका की हजारों फैक्ट्रियों को तबाह किया लाखों अमेरिकी नौकरियां खा गई ’

loading...

चीन ने 128 वस्तुओं के आयात पर शुल्क लगाया
इससे पहले अमेरिका ने अपने यहां के फलों, मांस समेत 3 अरब डॉलर मूल्य की 128 वस्तुओं के आयात पर अलावा शुल्क लगाए जाने को अनुचित बताते हुए कड़ी निंदा की थी अमेरिका में इस्पात  एल्युमीनियम पर शुल्क लगाने के बाद चाइना ने यह कदम उठाया था अमेरिका के आयात शुल्क बढ़ाने के फैसला के बाद संसार की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच व्यापार युद्ध की संभावना जताई जा रही थी दोनों राष्ट्रों की तरफ से एक-दूसरे के प्रोडक्ट पर लगातार शुल्क लगाए जा रहे हैं

Loading...
loading...