Wednesday , November 14 2018
Loading...

करोड़पतियों के राष्ट्र छोड़ने से गवर्नमेंट चिंतित

इन दिनों गवर्नमेंट को एक नयी तरह की चिंता सता रही है. करोड़पति लगातार राष्ट्रछोड़ रहे हैं  गवर्नमेंट इसकी वजह तलाशने में जुटी हुई है, ताकि इस समस्या का हल निकाला जा सके. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने अत्यधिक धनी तबके (एचएनआई) पर पड़ रहे कर के बोझ को समझने के लिए 5 सदस्यों की एक टीम बनाई है, जिसकी मीटिंग शुक्रवार को होने वाली है.Image result for 500 के नए नोट

इस मीटिंग में वे कारण खंगाले जाएंगे, जिनके चलते करोड़पतियों को राष्ट्र छोड़ना पड़ रहा है. इसके बाद इनके निराकरण के रास्ते निकाले जाएंगे. हालांकि धनी तबके का ऐसे राष्ट्रों का रख करना, जहां कर या तो लगता ही नहीं या फिर बहुत कम लगता है (टैक्स हैवेन) कोई नयी बात नहीं है. लेकिन, पिछले कुछ सालों से यह चलन जोर पकड़ने लगा है. इससे राष्ट्र का बहुत सारा पैसा बाहर जा रहा है, जिसे गवर्नमेंट रोकना चाहती है.

Loading...

23 हजार का पलायन

loading...

पिछले दिनों एक मीडिया हाउस के खास आयोजन में मॉर्गन स्टैनली के रचिर शर्मा ने बोला था कि 2014 से लेकर अब तक 23 हजार करोड़पति हिंदुस्तान छोड़कर दूसरे राष्ट्र जा चुके हैं, जो चिंता का विषय है. दिक्कत यह है कि तेज आर्थिक विकास के लिए राष्ट्र के अंदर विदेशी निवेश के साथ ही अपने लोगों का निवेश भी महत्वपूर्ण है.

Loading...
loading...