Saturday , November 17 2018
Loading...

दोनों राष्ट्रों के बीच रक्षा एरिया में योगदान बढ़ाने पर हुई चर्चा

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण तीन दिन की रूस यात्रा पर हैं. बुधवार को उन्होंने अपने समकक्ष सर्गेई शोइगू  उद्योग-व्यापार मंत्री डेनिस मांटुरोव से मास्को में मुलाकात की. इस दौरान दोनों पक्षों ने रक्षा एरिया में योगदान मजबूत करने पर वार्ता की. लंबे समय से अटके पड़े 40 हजार करोड़ की लागत वाले एस-400 ट्रायम्फ एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम की खरीद को अंतिम रूप देने पर भी चर्चा की आसार है.
Image result for रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण तीन दिन की रूस यात्रा

रक्षा मंत्री अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा पर सातवें मॉस्को सम्मेलन में भाग लेने गई हैं. सीतारमण के अनुसार, उनकी यह यात्रा हिंदुस्तान  रूस के बीच पारंपरिक मित्रवत संबंधों खासकर सैन्य तकनीक योगदानके एरिया को  मजबूत करने का मौका प्रदान करेगी. रक्षा मंत्री का पद संभालने के बाद सीतारमण की यह पहली रूस यात्रा है. उनका जोर रूस के साथ एस-400 मिसाइल सौदे को अंतिम रूप देने पर है.

चाइना से जुड़ी करीब 4 हजार किलोमीटर लंबी सीमा पर सैन्य ताकत बढ़ाने के प्रयासों को देखते हुए हिंदुस्तान के लिए यह रक्षा सौदा बहुत ज्यादा अहम है. हिंदुस्तान चाइना से बराबरी हासिल करने के लिए एस-400 मिसाइल हासिल करना चाहता है. चाइना ने सबसे पहले रूस से इस मिसाइल के लिए करार किया था. साथ ही रक्षा मंत्री परमाणु पनडुब्बी खरीदने के मामले में बने गतिरोध को भी दूर करना चाहेंगी.

Loading...

हिंदुस्तान के ज्यादातर सैन्य उत्पाद रूस निर्मित हैं. हिंदुस्तान गवर्नमेंट अहम सैन्य तकनीक के ट्रान्सफर के लिए रूस से लचीला रवैया अपनाने का अनुरोध कर रहा है. माना जा रहा है कि दोनों राष्ट्रों के रक्षा मंत्रियों की वार्ता में यह मुद्दा भी उठा. दोनों पक्षों ने 11 से 14 अप्रैल तक चेन्नई में होने जा रहे रक्षा एक्सपो में रूस की हिस्सेदारी पर भी बात की.

loading...

दोनों नेताओं ने आपस में सैन्य योगदान के साथ ही द्विपक्षीय  अन्य क्षेत्रीय मुद्दों पर भी चर्चा की.इसके अतिरिक्त रक्षा मंत्री वियतनाम, चाइना  साइबेरिया के रक्षा मंत्रियों से मिलीं. मंगलवार रात को सीतारमण ने दोनों राष्ट्रों के राजनयिक संबंधों के 70 वर्ष पूरे होने के मौका पर आयोजित सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खान के कंसर्ट में भी भाग लिया.

Loading...
loading...