Thursday , November 15 2018
Loading...
Breaking News

इस मामले में सलमान को कारागार होगी या राहत ?

काला हिरण शिकार मामले में एक्टर सलमान खान  अन्य के विरूद्ध जोधपुर की लोकल न्यायालयगुरुवार को अपना निर्णय सुनाएगी. जोधपुर के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट देव कुमार खत्री ने साल1998 में हुई इस घटना के विषय में बीते 28 मार्च को मामले की सुनवाई पूरी हो जाने के बाद निर्णयसुरक्षित रख लिया था.
Image result for काला हिरण शिकार मामले में सलमान को कारागार या राहत, निर्णय आज

न्यायालय ने निर्णय सुनाने की तारीख पांच अप्रैल मुकर्रर करते हुए सभी आरोपियों को उपस्थित रहने के आदेश दिए थे. इसे देखते हुए मुख्य आरोपी सलमान खान के साथ सह आरोपी एक्टर सैफ अली खान, अभिनेत्री तब्बू, सोनाली बेंद्र  नीलम बुधवार को ही जोधपुर पहुंच गए. बता दें कि 01 02 अक्तूबर 1998 को फिल्म ‘हम साथ-साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान सलमान पर जोधपुर के नजदीक कांकाणी गांव सहित तीन अलग-अलग स्थानों पर हिरणों का शिकार करने का आरोप लगा था.

दो मामलों में माफी को सुप्रीम कोर्ट में दी गई चुनौती
हिरण शिकार के दो मामलों की सुनवाई निचली न्यायालय में पूरी हो चुकी है जिनमें सलमान के विरूद्ध पांच और एक वर्ष की सजा को न्यायालय माफ कर चुका है. हालांकि राजस्थान गवर्नमेंट ने न्यायालय द्वारा सजा माफी के निर्णय को सुप्रीम न्यायालय में चुनौति दे रखी है.

Loading...

सैफ, नीलम, सोनाली  तब्बू पर उकसाने का आरोप
कांकाणी हिरण शिकार मामले में ही बृहस्पतिवार को निर्णय आना है. आरोप है कि कांकाणी की सरहद में एक-दो अक्तूबर 1998 की दरम्यानी रात सलमान ने दो काले हिरणों का शिकार किया था.इस दौरान सैफ अली खान, नीलम, सोनाली  तब्बू भी उसके साथ वाहन में सवार थे. इन पर सलमान को शिकार के लिए उकसाने का आरोप है.

loading...

सलमान को हो सकती है अधिकतम 6 वर्ष कैद

सलमान वन्यजीव संरक्षण कानून की धारा-51  अन्य कलाकार इंडियन दंड संहिता की धारा-149 (गैरकानूनी जमावड़ा) के तहत आरोपों का सामना कर रहे हैं. इस मामले में धारा-51 के तहत सलमान खान को अधिकतम छह वर्ष तक की सजा हो सकती है.

सरकारी एडवोकेट की दलील
सरकारी एडवोकेट भवानी सिंह भाटी ने अपनी दलील में बोला था कि उस रात सभी कलाकार जिप्सी में सवार थे. सलमान ड्रॉइविंग सीट पर थे. हिरणों का झुंड देखने पर सलमान ने कथित तौर पर गोली चलाई  दो हिरण मार दिए. सरकारी एडवोकेट के मुताबिक, जब लोगों ने उन्हें देखा  पीछा किया तो सभी मृत हिरणों को मौके पर ही छोड़कर भाग गए.

सलमान के एडवोकेट का दावा
आरोपों से मना करते हुए सलमान के एडवोकेट एच एम सारस्वत ने अपनी दलील में बोला था कि अभियोजन पक्ष की कहानी में कई खामियां हैं. उन्होंने यह भी दलील दी कि अभियोजन यह साबित करने में भी विफल रहा है कि काले हिरण बंदूक की गोली से ही मारे गए. ऐसे में इस तरह आरोपों पर भरोसा नहीं किया जा सकता.

दुष्यंत सिंह  दिनेश सिंह भी हैं आरोपी 
मामले में दो अन्य आदमी दुष्यंत सिंह  दिनेश गावरे भी आरोपी हैं. आरोप हैं कि हिरण के शिकार के समय दुष्यंत सिंह कथित तौर पर सलमान के साथ था, जबकि दिनेश गावरे के बारे में बताया जाता है कि वह सलमान का सहायक था. सरकारी एडवोकेट ने बोला कि दिनेश गावरे न्यायालय में कभी उपस्थित नहीं हुआ  मुख्य आरोपी ने उसे छिपाया.

गैंगेस्टर की धमकी को देखते हुए सुरक्षा कड़ी
तीन माह पूर्व कुख्यात गैंगेस्टर लारेंस विश्नोई ने सलमान को जोधपुर में मारने की धमकी दी थी.लारेंस जोधपुर सेंट्रल कारागार में ही बंद है. यदि सलमान को सजा होती है, तो धमकी की गंभीरता को देखते हुए कारागार प्रशासन ने एक्टर को पर्याप्त सुरक्षा उपलब्ध कराने की तैयारी भी कर ली है.डीसीपी अमनदीप सिंह के अनुसार, पुलिस सलमान को होटल से न्यायालय तक पूरी सुरक्षा देगी.

Loading...
loading...