Sunday , September 23 2018
Loading...
Breaking News

जब जश्न में डूब गए थे सवा सौ करोड़ हिन्दुस्तानी

2 अप्रैल का दिन इंडियन इतिहास में सुनहरे पन्नों में दर्ज है इसी दिन यानी आज से अच्छा 7 वर्षपहले इंडियन क्रिकेट टीम ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी की बदौलत 1983 के कारनामे को दोहराया था हिंदुस्तान ने इस दिन 28 वर्ष बाद विश्व क्रिकेट का ख़िताब अपने नाम किया था वर्ष2011 में वनडे विश्व कप का आयोजन संयुक्त रूप से पड़ोसी राष्ट्र श्रीलंक, बांग्लादेश  हिंदुस्तान में किया गया था

Related image

भारतीय क्रिकेट टीम इससे पहले वर्ष 2007 में हुए टी-20 क्रिकेट वर्ल्ड कप में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में विश्व कप का ख़िताब अपने नाम कर चुकी थी इसे देखते हुए वर्ष 2011 वनडे विश्व कप में भी हर किसी को उम्मीद थी कि इंडियन टीम यह विश्व कप भी अपने नाम करेगी  हुआ भी कुछ ऐसा ही हिंदुस्तान ने आज ही के दिन 7 वर्ष पहले 2011 विश्व कप का ख़िताब अपने नाम करते ही सवा सौ करोड़ हिंदुस्तानियों को जश्न मनाने का मौका दे दिया

Loading...

साल 2011 में विश्व कप का फाइनल मुकाबला हिंदुस्तान  श्रीलंका के बीच हिंदुस्तान की आर्थिक राजधानी मुम्बई में वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया था इस महामुकाबले में श्रीलंकाई टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए इंडियन टीम के समक्ष 275 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा किया था जवाब में लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंडियन टीम की आरंभ बहुत ज्यादा बेकार रही थी ‘क्रिकेट के भगवान’ सचिन तेंदुलकर  उनके विस्फोटक साझेदार वीरेंद्र सहवाग बेहद सस्ते में ही पैवेलियन लौट गए थे

loading...

भारतीय टीम अपने शुरुआती दो बड़े विकेट खोकर संकट में थी ऐसे में टीम को संकट से उबारते हुए गौतम गंभीर ने साहस भरी 97 रन की पारी खेली गौतम के आउट होने के बाद इंडियन पारी को कप्तान महेंद्र सिंह धोनी  हरफनमौला युवराज सिंह ने संभाला कप्तान महेंद्र सिंह धोनी शनदार लय में नजर आ रहे थे,  उन्होंने पूरी तरह से श्रीलंका के मंसूबों पर पानी फेर दिया 49वें ओवर की दूसरी गेंद पर जैसे ही महेंद्र सिंह धोनी ने शानदार छक्का लगाया वैसे ही हिंदुस्तान ने विश्व कप का ख़िताब अपने नाम कर लिया धोनी ने 91 रनों का जरूरी सहयोग दिया विश्व कप 2011 में युवराज सिंह को ‘मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट’ जबकि एमएस धोनी को ‘मैन ऑफ़ द’ मैच’ के ख़िताब से नवाजा गया था

Loading...
loading...